फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

मंगलवार, दिसंबर 24, 2013

अरे! मैं कैसे नहीं हूँ ख़ास?

हवा का इक झोंका हूँ मैं
नहीं टोकी-टोका हूँ मैं
न आऊँ तो मेरा इंतजार
आ भी जाऊँ तो सिर्फ़ बयार
तुम्हारी साँसों का उच्छ्वास
अरे! मैं कैसे नहीं हूँ ख़ास?

धरूँ मैं रूप अगर विकराल
बनूं फिर महाकाल का काल
बनूं जो मन्द-सुगन्ध-समीर
हरूँ प्रति हिय की दारुण पीर
संयोगीजन का हृद-उल्लास
अरे! मैं कैसे नहीं हूँ ख़ास?

प्रकृति की भाव-तरणि निर्द्वन्द्व
तैरती प्रमुदित मन स्वच्छन्द
कर रही सृष्टि-सिन्धु को पार
डाल मुझ पर सारा सम्भार
एक ग़ाफ़िल पर यह विश्वास
अरे! मैं कैसे नहीं हूँ ख़ास?



23 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर आत्मविश्वास से भरी प्रस्तुति बहुत खूब ,बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (25-12-13) को "सेंटा क्लॉज है लगता प्यारा" (चर्चा मंच : अंक-1472) पर भी होगी!
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    क्रिसमस की हार्दिक शुभकामनाओं के साथ।
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  3. ख़ास बनाने के कारणों पर आपकी कलम खूब चली
    नए साल कि शुभकानाए

    उत्तर देंहटाएं
  4. प्रकृति की भाव-तरणि निर्द्वन्द्व
    तैरती प्रमुदित मन स्वच्छन्द
    कर रही सृष्टि-सिन्धु को पार
    डाल मुझ पर सारा सम्भार

    बहुत सुंदर प्रस्तुति ....

    उत्तर देंहटाएं
  5. हवा का इक झोंका हूँ मैं
    नहीं टोकी-टोका हूँ मैं
    न आऊँ तो मेरा इंतजार
    आ भी जाऊँ तो सिर्फ़ बयार
    तुम्हारी साँसों का उच्छ्वास
    अरे! मैं कैसे नहीं हूँ ख़ास?

    बहु आयामी प्रकृति की नट लीला से संसिक्त रचना।

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. राम राम भाई! आपकी जय हो बहुत बहुत शुक़्रिया और आभार आपका

      हटाएं
  6. जी बिलकुल सही लिखा आपने .. यही विश्वास तो एक आम व्यक्ति को खास बनाता है !

    उत्तर देंहटाएं
  7. उम्दा पोस्ट |सशक्त रचना |

    उत्तर देंहटाएं
  8. ग़ाफ़िल जी ....आप तो खासमखास हैं .....
    शुभकामनायें!

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अशोक जी उत्साहवर्द्धन के लिए बहुत-बहुत शुक़्रिया!

      हटाएं
  9. बहुत सुंदर भाव..शब्दों का चयन भी उत्तम है

    उत्तर देंहटाएं

  10. हाय हाय हाय …क्या कहने

    वाह वाह

    उत्तर देंहटाएं
    उत्तर
    1. अलबेला भाई साहब आदाब और शुक़्रिया भी लेते जाओ लगे हाथ हाँ नहीं तो!

      हटाएं