फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

मंगलवार, फ़रवरी 28, 2017

दर्द इस तर्ह कुछ तो कम होंगे

आशिक़ों के जो निकले दम होंगे
हुस्न के यूँ भी क्या सितम होंगे

यूँ बढ़ाओगे बात जीतनी ही
बात में उतने पेचो ख़म होंगे

हो चुके बिछते बिछते संगे राह
चश्म ये अब न यार नम होंगे

ख़्वाहिशों कर दिया है तुमको तर्क़
दर्द इस तर्ह कुछ तो कम होंगे

ख़त्म होंगे न अश्क ग़ाफ़िल गर
हाले ख़स्तः भी ख़ाक ग़म होंगे

-‘ग़ाफ़िल’

सोमवार, फ़रवरी 27, 2017

तू नहीं होता है तो कौन वहाँ होता है

ढूँढा करता हूँ जहाँ तेरा निशाँ होता है
अब बता तू ही के तू यार कहाँ होता है

तेरे पीछे मैं चला जाता हूँ सहरा सहरा
शब को भी गर तू ख़यालों में अयाँ होता है

गो है तूने ही दिया पर हो तुझे क्यूँ एहसास
हाँ वही दर्द मुझे जितना जहाँ होता है

आह भरते हैं कई नाम तेरा ले लेकर
यह तमाशा भी सरे शाम यहाँ होता है

ख़ुश्बू तेरी सी ही आती है जहाँ से ग़ाफ़िल
तू नहीं होता है तो कौन वहाँ होता है

-‘ग़ाफ़िल’

बुधवार, फ़रवरी 22, 2017

दिल है यह मेरा कोई पत्थर नहीं है

पायलों की छमछनननन गर नहीं है
फिर मक़ाँ ऐ दोस्त हरगिज़ घर नहीं है

दर वो जिस पर हो न तेरी बू-ओ-छाप
मैं कहूँगा वह मुक़म्मल दर नहीं है

क्यूँ किए जाता है इस पर दस्तकारी
दिल है यह मेरा कोई पत्थर नहीं है

फाख़्ते तू ले न जाएगा ख़बर तो
और क्या कोई भी नामाबर नहीं है

देख ग़ाफ़िल चश्म की दरियादिली यह
छलछलाता है छलकता पर नहीं है

-‘ग़ाफ़िल’

शनिवार, फ़रवरी 18, 2017

साँप आस्तीं के

चलाया तो तीरे नज़र आप ही ने
मगर आपको हम न रुस्वा करेंगे
हैं साँप आस्तीं के भला क्या यहाँ कम
जो अब आप भी रोज़ आया करेंगे

-‘ग़ाफ़िल’

गुरुवार, फ़रवरी 16, 2017

मैं रहूँ जैसे भी लेकिन शाद यह कुनबा रहे

है ज़ुरूरी वाक़ई तो फ़ासिलः ऐसा रहे
तू कहीं भी हो तसव्वुर में मगर आता रहे

कोई बेहतर कर भी क्या सकता है बस इसके सिवा
दिल भले रोता रहे फिर भी वो मुस्काता रहे

तू भले माने न लेकिन जीते जी मर जाएगा
बोझ तेरी बेरुख़ी का कोई गर ढोता रहे

या ख़ुदा मेरी दुआ में इतना तो कर दे असर
मैं रहूँ जैसे भी लेकिन शाद यह कुनबा रहे

इल्म इतना भी नहीं ग़ाफ़िल शराबे चश्म को
जो नहीं लाइक़ हैं उसके स्वाद वे ही पा रहे

-‘ग़ाफ़िल’

बुधवार, फ़रवरी 08, 2017

कहाँ मैं थोक हूँ मैं भी तो यार खुदरा हूँ

मुझे निहार ले किस्मत सँवार सकता हूँ
भले ही टूट के गिरता हुआ मैं तारा हूँ

नहीं ये मील के पत्थर मुझे सँभाले कभी
पता था गो के इन्हें रास्ते से भटका हूँ

सिसक रहा है कोई मुस्कुरा रहा है कोई
न मुस्कुरा ही सका मैं न सिसक पाया हूँ

मेरी भी हो न हो बढ़ जाए कोई शब क़ीमत
कहाँ मैं थोक हूँ मैं भी तो यार खुदरा हूँ

ख़बर सुनी तो सही तूने ज़माने से भले
यही के इश्क़ में तेरे मैं कैसे रुस्वा हूँ

जो मुझसे आज मुख़ातिब है यह भी कम है कहाँ
भले ही कहता रहे तू के मैं पराया हूँ

न चुभ सके है चुभाए भी ख़ार ग़ाफ़िल अब
मैं इतने ख़ार भरे रास्तों से गुज़रा हूँ

-‘ग़ाफ़िल’

मंगलवार, फ़रवरी 07, 2017

आह! यह क्या से क्या हो गया

बावफ़ा बेवफ़ा हो गया
आह! यह क्या से क्या हो गया

उनसे आँखे मिलीं मेरा जी
ख़ूब था बावरा हो गया

एक क़त्आ-
आप तक़्दीर के हैं धनी
हिज़्र में भी नफ़ा हो गया
हिज़्र में इखि़्तयार आप पर
देखिए आपका हो गया

यार ग़ाफ़िल यहाँ हर कोई
क्यूँ भला सरफिरा हो गया

-‘ग़ाफ़िल’

सोमवार, फ़रवरी 06, 2017

साक़ी इधर भी ला न ज़रा और ढाल कर

मैं लुट चुका हूँ वैसे भी अब तू न चाल कर
जैसा भी मेरा दिल है उसे रख सँभाल कर

साहिल पे अब है डूब रही ऐ मेरे ख़ुदा
तूफ़ान से जो नाव था लाया निकाल कर

अब संगो ख़ार से ही रहे इश्क़ है अटी
रक्खे कोई क़दम तो ज़रा देख भाल कर

थोड़ी सी ही तो मै थी जिसे पी चुका हूँ अब
साक़ी इधर भी ला न ज़रा और ढाल कर

ग़ाफ़िल हैं जोड़ तोड़ रवायात इश्क़ की
मेरे नहीं तो ख़ुद के ही जी का ख़याल कर

-‘ग़ाफ़िल’

शनिवार, फ़रवरी 04, 2017

सो मिल गया है आज मुझे दार, क्या करूँ?

हूँ जामे चश्म तेरा तलबगार, क्या करूँ?
तक़्दीर से पै आज हूँ लाचार, क्या करूँ?

कोई तो आह! शौक से मारा नज़र का तीर
जी चाहे गो के फिर भी पलटवार क्या करूँ?

तू देख गर तो जी मैं तुझे कबका दे चुका
वैसे भी और बोल मेरे यार, क्या करूँ?

माना के एक बार किया था गुनाहे इश्क़
यारो वही गुनाह मैं हर बार क्या करूँ?

ग़ाफ़िल हूँ मैं इसीलिए शायद क़फ़स था कम
सो मिल गया है आज मुझे दार, क्या करूँ?

(क़फ़स=पिंजड़ा, दार=फाँसी)

-‘ग़ाफ़िल’
(चित्र गूगल से साभार)

शुक्रवार, फ़रवरी 03, 2017

कोई ग़ाफ़िल कहाँ भला जाए

जी मेरा भी सुक़ून पा जाए
तेरा जी भी जो मुझपे आ जाए

काश आ जाऊँ तेरे दर पे मैं और
वाँ मेरा गाम लड़खड़ा जाए

जाने से तेरे जाए जी मेरा
सोचता हूँ के तेरा क्या जाए

मैं कहूँगा के मैं कहूँगा भी क्या
मुझसे कहने को गर कहा जाए

क्या करेगा तू उसका मोलो फ़रोख़्त
जो दिखे भर के जी पे छा जाए

न तआरूफ़ ठहरा तुझसे भी तो
कोई ग़ाफ़िल कहाँ भला जाए

(गाम=क़दम, तआरूफ़=परिचय)

-‘ग़ाफ़िल’