Thursday, March 24, 2022

फुल मस्ती

है बात और के दौरे रवाँ में मुश्क़िल है
कहाँ हँसी सा मगर रंग कोई दुनिया में

-‘ग़ाफ़िल’








Saturday, February 19, 2022

आने ने तेरे लोगों को अपना बना दिया (221 2121 1221 212)

ख़ासा था मैं और आज तमाशा बना दिया
तेरे जमाले हुस्न ने क्या क्या बना दिया

रिश्ता नहीं था लोगों से अपना कोई मगर
आने ने तेरे लोगों को अपना बना दिया

-‘ग़ाफ़िल’

comment by facebook