फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Monday, December 08, 2014

बेजा क़रार आया

बहुत तुरपाइयाँ कीं रिश्तों की फिर क्यूँ दरार आया।
तुम्हारी एक मीठी बोल पर बेजा क़रार आया।।

ग़मे-फ़ुर्क़त का जो अहसास था वह फिर भी थोड़ा था,
जो ग़म इस वस्ल के मौसिम में आया बेशुमार आया।

तुम्हारी बेरूख़ी का यह हुआ है फ़ाइदा मुझको,
पसे-मुद्दत मेरा ख़ुद पर यक़ीनन इख़्तियार आया।

सहेजो इशरतों को ख़ुद की जो इक मुश्त हासिल हैं,
मुझे गर लुत्फ़ आया भी कभी तो क़िस्तवार आया।

ऐ ग़ाफ़िल! होश में आ नीमशब में फिर हुई हलचल,
तुझे तुझसे चुराने फिर से कोई ग़मगुसार आया।।

(ग़ार= बड़ा गड्ढा, पसे-मुद्दत=मुद्दत बाद, नीम शब=अर्द्धरात्रि, ग़मगुसार=सहानुभूति रखने वाला)
                                                        -गाफ़िल
आप फ़ेसबुक आई.डी. से भी कमेंट कर सकते हैं-

Wednesday, December 03, 2014

राम भरोसे ज़िन्दगी

ख़ुद में हैं मश्‌ग़ूल सब किसको किसकी फ़िक्र
राम भरोसे ज़िन्दगी किसका किससे ज़िक्र

-‘ग़ाफ़िल’

Monday, December 01, 2014

चश्मे-साक़ी में जो साग़र हैं तलाशा करते

ऐसे कुछ हैं के जो पत्थर हैं तलाशा करते
वह जो मिल जाय तो इक सर हैं तलाशा करते

हद हुई ताज की भी मरमरी दीवारों पर
बदनुमा दाग़ वो अक्सर हैं तलाशा करते

इल्म तो है के वो हम जैसों को मिलते हैं कहाँ
हम भी पागल से उन्‍हें पर हैं तलाशा करते

ताल सुर बह्र से जिनका है न लेना देना
मंच ऊँचा, वे सुख़नवर हैं तलाशा करते

यार ग़ाफ़िल! क्या सभी रिंद हुए शाइर अब
चश्मे-साक़ी में जो साग़र हैं तलाशा करते

-‘ग़ाफ़िल’

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.