फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Thursday, April 05, 2012

घर का न घाट का

आजकल पता नहीं क्यों लिखने से
मन कतराता है...घबराता है
फिर उलझ-उलझ कर रह जाता है
समझ नहीं आता कि
क्या लिखूँ!
कहां से शुरू करूँ और कहां ख़त्म
विचारों का झंझावात जोशोख़रोश से
उड़ा ले जा रहा है
और मैं उड़ता जा रहा हूँ
अनन्त में दिग्भ्रमित सा
न कहीं ओर, न कहीं छोर
पता नहीं है भी कोई
जो पकड़े हो इस पतंग की डोर
यह भी नहीं पता कि मैं कट गया हूँ
या उड़ाया जा रहा हूँ किसी को काटने के लिए
ख़ैर!
जो भी हो
ऊँचाइयां तो छू ही रहा हूँ
और ऊँचे गया तो लुप्त हो जाऊँगा
अनन्त की गहराइयों में
अवन्यभिमुखता पहुँचा तो देगी
अपनी धरती पर जहां हमारी जड़ है
हाँ अगर किसी खजूर पर अटका तो!
वह स्थिति भयावह होगी
फट-फट के टुकड़े-टुकड़े हो जाएगा
यह दिल वाला पतंग
काल के हाथों नुचता-खुचता खो जाएगा।
घर का न घाट का
ग़ाफ़िल है बाट का
पर यही तो चालोचलन है
आवारापन का उत्कृष्टतम प्रतिफलन है
चलो यही सही
यारों का आदेश सर-आँखों पर
तो
बताओ जी! यह कैसी रही?
बेशिर-पैर, बिना तुक-ताल की कविता
कुछ आपके समझ में आयी!
या आपने अपना अनमोल वक्त और
अक्ल दोनों गंवाई!
मुआफ़ी!
आपका दिमाग़ी ज़रर हो
ऐसा मेरा इरादा भी न था
और याद रहे!
एक ख़ूबसूरत कविता सुनाने का
मेरा वादा भी न था।

47 comments:

  1. मुआफ़ी!
    आपका दिमागी ज़रर हो
    ऐसा मेरा इरादा भी न था
    पर याद रहे!
    एक ख़ूबसूरत कविता लिखने का
    मेरा वादा भी न था।

    बढ़िया रचना,बहुत सुंदर भाव प्रस्तुति,बेहतरीन पोस्ट,....

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: मै तेरा घर बसाने आई हूँ...
    MY RECENT POST...फुहार....: दो क्षणिकाऐ,...

    ReplyDelete
  2. hahaha...ye bhi khoob rahi.bahut achchi lagi rachna.

    ReplyDelete
  3. बहुत संवेदनशील रचना,बहुत ही सुंदर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  4. आप को सुगना फाऊंडेशन मेघलासिया,"राजपुरोहित समाज" आज का आगरा और एक्टिवे लाइफ
    ,एक ब्लॉग सबका ब्लॉग परिवार की तरफ से सभी को भगवन महावीर जयंती, भगवन हनुमान जयंती और गुड फ्राइडे के पावन पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं ॥
    आपका

    सवाई सिंह{आगरा }

    ReplyDelete
  5. sundar post bhavbhini rachna bdhai.

    ReplyDelete
  6. एक ख़ूबसूरत कविता लिखने का
    मेरा वादा भी न था।
    ....फिर भी कितनी सुन्दर कविता!....आभार!

    ReplyDelete
  7. घर का न घाट का
    दोनों ही पाट का
    हालत ख़राब है-
    गाफिल से लाट का |
    सर पे तो बोझ है -
    कालेज का हाट का |
    करना ही पड़ेगा
    कोई बड़ा टोटका |

    ReplyDelete
  8. क्या खूब लिखा है आपने | वाह |

    ReplyDelete
  9. यह उत्कृष्ट प्रस्तुति
    चर्चा-मंच भी है |
    आइये कुछ अन्य लिंकों पर भी नजर डालिए |
    अग्रिम आभार |
    FRIDAY
    charchamanch.blogspot.com

    ReplyDelete
  10. आपने जो भी लिखा है
    हमें तो बस वही
    समझ में आता है
    यहीं पर आपका हमारा
    एक ही खाता है
    बैंकरप्ट कभी कभी
    दिमाग से हो जाता है
    खाली दिमाग उल्लूक का सब
    कुछ जमा कर ले जाता है।

    ReplyDelete
  11. फिर भी पसंद आई....शुभकामनाएँ.

    ReplyDelete
  12. ख्याल अच्छा है..!!!

    ReplyDelete
  13. कविता का हास्य पसंद आया।
    आपने जो लिखा वह भाया
    हमने ही कौन अच्छे कवियों को पढ़ने की ठानी है
    जो मन को भा जाए उसे ही कवि और उसकी रचना को कविता मानी है।

    ReplyDelete
  14. यह भी नहीं पता कि मैं कट गया हूँ
    या उड़ाया जा रहा हूँ किसी को काटने के लिए

    मन के उद्वेलन को इस कविता मेन बखूबी पिरोया है ...

    ReplyDelete
  15. कशमकश भरी लेखनी ..

    ReplyDelete
  16. रचना में उधेड़बुन का प्रदर्शन एक स्वस्थ मानस का विविध आयामों से किया गया उत्कृष्ट अनुशीलन है ,तार्किक अध्ययन है , जो बखूबी कविता में दृश्यगत है , नैशर्गिक सृजन ,, साधुवाद मिश्र जी /

    ReplyDelete
  17. आपका दिमाग़ी ज़रर हो
    ऐसा मेरा इरादा भी न था
    और याद रहे!
    एक ख़ूबसूरत कविता लिखने का
    मेरा वादा भी न था।

    बहुत सुंदर । मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  18. हमें तो सर पैर सब दिखाई दिए कविता के और पसंद भी आई.

    ReplyDelete
  19. हास्य व्यंग्य विनोद से भर पूर कविता अन्दर कविता .तुकांत भी अतुकांत भी कविता भी ,अ -कविता भी .

    ReplyDelete
  20. विचारों को गिर जाने दीजिए। तभी जन्मेगी कविता।

    ReplyDelete
  21. :-)

    कविता दो बार पढ़ी............फिर समझ में आई..............
    तब जाकर मन को भी भायी .............

    सादर
    अनु

    ReplyDelete
  22. सुन्दर और आनन्दमय

    ReplyDelete
  23. प्रभावशाली प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  24. 'बताओ जी! यह कैसी रही?'
    - खूब खरी-खरी बात समझ में आई -स्वीकारें इसकी बधाई !

    ReplyDelete
  25. और याद रहे!
    एक ख़ूबसूरत कविता लिखने का
    मेरा वादा भी न था।... :) :)
    uljhi si hi sahi par kavita to achchi hai ,har lekhk ke man ke bhav is me hai

    ReplyDelete
  26. wahi ghaifil ke dhabe kee yaad aa gayi...gajab ka mind freshner ejad kiya hai aapne..aanand aa gay..sadar badhayee ke sath

    ReplyDelete
  27. अलग तरह की कविता है ,सब के साथ अक्सर ऐसे होता है जब कुछ सूझता ही नहीं ,और कभी कभी तो कुछ लिखने को शब्द ही नहीं मिलते ,शब्द मिल जाए तो विचार सुप्त हो जाते है

    ReplyDelete
  28. और मैं उड़ता जा रहा हूँ
    अनन्त में दिग्भ्रमित सा
    न कहीं ओर, न कहीं छोर
    पता नहीं है भी कोई
    जो पकड़े हो इस पतंग की डोर
    bahut badhiyaa है . vichaar sarni ko nirbhay hokar dekhnaa .

    ReplyDelete
  29. बहुत ही सुन्दर रचना बन गयी है .....बिलकुल मन को गुदगुदा गयी कभी कभी बे मन की लिखी हुई रचना भी यादगार बन जाती है ......बधाई गाफिल जी |

    ReplyDelete
  30. वाह!!!!!!बहुत सुंदर रचना,अच्छी प्रस्तुति........

    MY RECENT POST...काव्यान्जलि ...: यदि मै तुमसे कहूँ.....

    ReplyDelete
  31. क्या बात है..!

    कविता के अंदर कविता..!

    बहुत खूब, ग़ाफि़ल जी।

    ReplyDelete
  32. पढ़मे में मजेदार पर गहरे भाव लिये व जीवन-दर्शन को समझाती सुंदर मुक्तक रचना । बधाई । यदि समय अनुमति दे तो मेरे ब्लॉग शिवमेवम् सकलम् जगत पर अवश्य पधारियेगा , आपकी प्रतीक्षा व स्वागत है ।

    ReplyDelete
  33. खुद से खुद का संवाद है कविता .जीवन की उछाड़ पछाड़ ,ऊहापोह है यह कविता .

    ReplyDelete
  34. निश्चित ही सराहनीय प्रस्तुति....

    ReplyDelete
  35. वाह ! बहुत खुबसूरत रचना.
    इसको कहते है बातों ही बातों में कविताई .

    ReplyDelete
  36. वाह..क्या खूब लिखा है आपने...
    शानदार...

    ReplyDelete
  37. "एक ख़ूबसूरत कविता लिखने का
    मेरा वादा भी न था।"

    फिर भी आपने एक बेहद खूबसूरत रचना लिख ही दी...बहुत भावपूर्ण रचना..अक्सर ऐसा होता है आपने जिस मानसिक स्तिथि का चित्रण किया आजकल बिलकुल इसी दौर से मैं भी गुज़र रहा हूँ..बस फर्क ये है आपने इसी मानसिक उहापोह से एक रचना को जन्म दे डाला और मैंने.......खैर, बहुत बहुत बधाई आपको सर.

    ReplyDelete
  38. यह भी खूब रही....
    ----सुन्दर कविता, बिना तुक-ताल की ही सही, पर बेशिर-पैर की नहीं जी...

    ReplyDelete
  39. वादे न किये और निभा भी दिये
    ये अंदाज काफी निराला लगा
    काहे कतराना-घबराना-उलझाना मन
    किस जतन से पतंग को सम्हाला,लगा
    मीर गालिब मिले छोड़ा घर-घाट जब
    प्यार से जो मिला वो "निराला" लगा.
    प्रेम-धागे में बंध जो जमीं से जुड़ा
    इस धरा पे वो चंदा का हाला लगा.

    ReplyDelete
  40. "यह भी नहीं पता कि मैं कट गया हूँ
    या उड़ाया जा रहा हूँ किसी को काटने के लिए"
    हमें तो पसंद आई :)

    ReplyDelete