फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, जनवरी 05, 2018

क्या कहूँ ग़ाफ़िल जी क्या क्या मोहतरम करते रहे

क्यूँ तसव्वुर से हमारे रब्त कम करते रहे
आप कुछ इस तर्ह भी हम पर सितम करते रहे

सोचिए क्या आपसे हो भी सका वादा वफ़ा
देखिए तो यह ज़ुरूरी काम हम करते रहे

राख हम तो हो गए उल्फ़त की आतिश में फिर आप
किसको दिखलाने के बाबत चश्म नम करते रहे

अनसुनी होती रही क्यूँ फिर सदा गुंचे की और
जुल्म पंखुड़ियों पर उसके बेरहम करते रहे

उस तरह वह सब कोई भी शख़्स कर सकता नहीं
जिस तरह जो जो गुनाह अपने बलम करते रहे

जब नहीं करना था कुछ और इक मुहब्बत के सिवा
क्या कहूँ ग़ाफ़िल जी क्या क्या मोहतरम करते रहे

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें