फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Sunday, December 25, 2011

कस्म गोया तेरी खायी न गयी

दिल से तस्वीर मिटायी न गयी
याद तेरी थी भुलायी न गयी

ग़ुफ़्तग़ू होती मज़ेदार मगर
बात बाक़द्र चलायी न गयी

खोजता आज भी रहता हूँ जिसे
वह ख़ुशी हमसे तो पायी न गयी

खा लिया मैंने क़फ़स की भी हवा
क़स्म गोया तेरी खायी न गयी

बढ़के पल्लू को पकड़ लेने की
रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी

-‘ग़ाफ़िल’

69 comments:

  1. बढ़िया रचना..

    ReplyDelete
  2. AAP KI AMANAT ME JAMANAT HI NAHI

    BAHUT KHOOB BAHUT KHOOB ........./

    ReplyDelete
  3. aapke sheron ne sama aisa bandha lajab
    chahker bhi tippadi badi likhai na gayi
    behtarin..नज़्रे-आतिशे-तग़ाफ़ुले-जाना
    दिल की दुनिया थी, बचायी न गयी।..

    ReplyDelete
  4. वाह ....बहुत ही उम्दा

    ReplyDelete
  5. बेहतरीन प्रस्तुति...

    ReplyDelete
  6. बहुत सुंदर गजल बेहतरीन,.....

    मेरे नए पोस्ट के लिए--"काव्यान्जलि"--"बेटी और पेड़"--में click करे

    ReplyDelete
  7. खोजता रह गया ता’उम्र जिसे,
    वह खुशी हमसे तो पायी न गयी।
    बहुत खूबसूरत गजल

    ReplyDelete
  8. पूछा कई बार चारागर ने मगर
    चोट ऐसी थी कि दिखायी न गई
    वाह!!!! गाफिल जी, क्या खूब गज़ल है
    खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी।
    भई, वाह !!!!

    ReplyDelete
  9. सुन्दर.... भावो का बहुत अच्छा प्रदर्शन

    ReplyDelete
  10. भावपूर्ण रचना |
    गजल अच्छी लगी |
    आशा

    ReplyDelete
  11. कोई बात नहीं ग़ाफ़िल साहब,ये नहीं,वो सही। वो नहीं,कोई और सही!

    ReplyDelete
  12. शानदार गजल....
    सादर बधाई...

    ReplyDelete
  13. खोजता रह गया ता’उम्र जिसे,
    वह खुशी हमसे तो पायी न गयी।

    खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी।
    ...बहुत ख़ूब..उम्दा रचना..

    ReplyDelete
  14. नज़्रे-आतिशे-तग़ाफ़ुले-जाना
    दिल की दुनिया थी, बचायी न गयी।

    बढ़के पल्लू को थाम लेने की,
    रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी।।

    वाह गाफिल जी , एक बेहतरीन प्रस्तुति के लिए ....आभार | मै तो सिर्फ इतना कहना चाहूँगा -

    गाफिल ग़ज़ल की शक्ल में क्या खूब तजुर्बा है |
    जज्बातेजिगर गुफ्तगुं , तुझसे तो छिपाई ना गयी ||

    ReplyDelete
  15. khojta rah gaya ti umra jise
    woh khushi hum se paie na gaee
    Badh ka paloo ko tham lene ki
    rasm gaphil se nibhaie na gaee

    KAMAL KA LIKHA HAI -BADHAIE

    ReplyDelete
  16. बहुत खूब.....
    बेहतरीन ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  17. वाह क्या बात है. दर्द में सनी एक जबरदस्त ग़ज़ल.

    ReplyDelete
  18. खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी।.....वाह क्या बात है.....

    ReplyDelete
  19. खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी। Bahut Khoob Behtarin rachna.

    ReplyDelete
  20. नज़्रे-आतिशे-तग़ाफ़ुले-जाना
    दिल की दुनिया थी, बचायी न गयी।

    ReplyDelete
  21. नज़्रे-आतिशे-तग़ाफ़ुले-जाना
    दिल की दुनिया थी, बचायी न गयी।
    बहुत खूब शबाब आरहा है शायर की शायरी में .

    ReplyDelete
  22. आपका अंदाजेबयाँ निराला है सर जी

    ReplyDelete
  23. खोजता रह गया ता’उम्र जिसे,
    वह खुशी हमसे तो पायी न गयी

    ...बहुत खूब! हरेक शेर बहुत उम्दा...

    ReplyDelete
  24. खोजता रह गया ता’उम्र जिसे,
    वह खुशी हमसे तो पायी न गयी


    बाह ..मन कोछूती सुन्दर रचना

    vikram7: आ,मृग-जल से प्यास बुझा लें.....

    ReplyDelete
  25. ak khoob soorat ghazal pr punh abhar .... mere nye post pr swagat hai.

    ReplyDelete
  26. बहुत सुंदर....नव वर्ष की हार्दिक शुभकामनायें !

    ReplyDelete
  27. वाह ...बहुत खूब


    नववर्ष की अनंत शुभकामनाओं के साथ बधाई ।

    ReplyDelete
  28. आपका पोस्ट बहुत ही अच्छा लगा .। मेरे पोस्ट पर आपका स्वागत है । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाए ।

    ReplyDelete
  29. सुंदर अभिव्यक्ति,.....
    नया साल सुखद एवं मंगलमय हो,....

    मेरी नई पोस्ट --"नये साल की खुशी मनाएं"--

    ReplyDelete
  30. नववर्ष की शुभकामनाएँ लीजिए।

    ReplyDelete
  31. बढ़के पल्लू को थाम लेने की,
    रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी।।
    बहुत ख़ूब! क्या बात कही है!!

    आपको और आपके परिवार को नए साल की हार्दिक शुभकामनाएं!

    ReplyDelete
  32. बढ़के पल्लू को थाम लेने की,
    रस्म गाफ़िल से निभायी न गयी

    बेहतरीन, बेहतरीन।
    शुभ नववर्ष।

    ReplyDelete
  33. नए वर्ष की हार्दिक बधाई.

    ReplyDelete
  34. खोजता रह गया ता’उम्र जिसे,
    वह खुशी हमसे तो पायी न गयी।
    नव वर्ष मुबारक .हर सुबह हर शाम मुबारक .

    ReplyDelete
  35. खोजता रह गया ता’उम्र जिसे,
    वह खुशी हमसे तो पायी न गयी।बहुत उम्दा गाफ़िल जी .......

    ReplyDelete
  36. आप को सपरिवार नव वर्ष 2012 की ढेरों शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  37. umda gazal..
    नव वर्ष मंगलमय हो !
    बहुत-बहुत हार्दिक शुभकामनाएं ....

    ReplyDelete
  38. नव वर्ष मंगलमय हो !

    ReplyDelete
  39. आपका पेस्ट अच्छा लगा । मरे अगले पोस्ट "जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी" पर आपका बेसव्री से इंतजार रहेगा । नव वर्ष की अशेष शुभकामनाएं । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  40. गोया आप की इस खुबसूरत ग़ज़ल के लिए ढेरों बधाइयां. यह नया साल आप की ऐसी कई खुबसूरत ग़ज़लों वाला साल हो और आप दिन-ब-दिन ज़्यादा से ज़्यादा खुशहाल हों. कृष्ण गोपाल सिन्हा,लखनऊ.

    ReplyDelete
  41. प्रस्तुति अच्छी लगी । मेरे नए पोस्ट " जाके परदेशवा में भुलाई गईल राजा जी" पर आपके प्रतिक्रियाओं की आतुरता से प्रतीक्षा रहेगी । नव-वर्ष की मंगलमय एवं अशेष शुभकामनाओं के साथ ।

    ReplyDelete
  42. खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी।

    वाह ! ये शेर पढ़ कर तो ग़ालिब का शेर याद आ गया

    ज़हर मिलता ही नहीं मुझको सितमगर वरना
    क्या कसम है तेरे मिलने की, के खा भी न सकूँ

    ReplyDelete
  43. वाह!...बहुत खूब!

    ReplyDelete
  44. बेहतरीन गजल।
    हर शेर लाजवाब।

    ReplyDelete
  45. बढ़के पल्लू को थाम लेने की,
    रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी।।
    बेहतरीन प्रस्तुति सारे शैर काबिले दाद .शुक्रिया आपकी ब्लोगिया दस्तक का .

    ReplyDelete
  46. बहुत ही खूबसूरत गज़ल गापिल साहब, एक एक शेर सुंदर है ।

    ReplyDelete
  47. बहुत ही खूबसूरत गज़ल गापिल साहब, एक एक शेर सुंदर है ।

    ReplyDelete
  48. कल 14/1/2012को आपकी पोस्ट नयी पुरानी हलचल पर लिंक की जा रही हैं.आपके सुझावों का स्वागत है .
    धन्यवाद!

    ReplyDelete
  49. sir
    kya kahu ya likhun------
    bas yun samjhiye ki har sher ko do -do bar padhti gai.
    bahut bahut hi umda------
    poonam

    ReplyDelete
  50. बहुत ही सार्थक व सटीक लेखन| मकर संक्रांति की हार्दिक शुभकामनाएँ|

    ReplyDelete
  51. आपकी पोस्ट आज की ब्लोगर्स मीट वीकली (२६) मैं शामिल की गई है /आप मंच पर आइये और अपने अनमोल सन्देश देकर हमारा उत्साह बढाइये /आप हिंदी की सेवा इसी मेहनत और लगन से करते रहें यही कामना है /आभार /लिंक है
    http://www.hbfint.blogspot.com/2012/01/26-dargah-shaikh-saleem-chishti.html

    ReplyDelete
  52. बहुत ही सुन्दर ग़ज़ल है |
    मेरे भी ब्लॉग में पधारें |
    मेरी कविता

    ReplyDelete
  53. कस्म गोया तेरी खायी न गयी।

    नज़्रे-आतिशे-तग़ाफ़ुले-जाना
    दिल की दुनिया थी, बचायी न गयी।

    बढ़के पल्लू को थाम लेने की,
    रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी।।

    हर एक शेर शानदार हैं
    वाह बहुत खूब.. उम्दा बधाई स्वीकार करें

    मैं आपको मेरे ब्लॉग पर सादर आमन्त्रित करता हूँ.....

    ReplyDelete
  54. //ज़ीनते-गुफ़्तगू हो जाती बस
    बात बाक़द्र चलायी न गयी।

    खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी।

    नज़्रे-आतिशे-तग़ाफ़ुले-जाना
    दिल की दुनिया थी, बचायी न गयी।//

    lajawaab ghazal sir.. lajawaab...
    mazaa aa gaya..

    kabhi waqt mile to mere blog par bhi aaiyega.. ummeed karta hun niraash nahi karunga..
    palchhin-aditya.blogspot.com

    ReplyDelete
  55. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    --
    गणतन्त्रदिवस की पूर्ववेला पर हार्दिक शुभकामनाएँ!
    --
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा आज के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    सूचनार्थ!

    ReplyDelete
  56. बहूत सुंदर
    बेहतरीन गजल

    ReplyDelete
  57. खा लिया मैंने बादे-ज़िन्दाँ भी,
    कस्म गोया तेरी खायी न गयी।

    वाह...क्या अन्दाज़ है!

    ReplyDelete
  58. बढ़के पल्लू को थाम लेने की,
    रस्म ग़ाफ़िल से निभायी न गयी।।
    Beautiful !

    ReplyDelete