फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Wednesday, October 06, 2010

सुबरन गिरि बेकार

एक ऐसी रचना जो सहज ही रीतिकाल की सैर करा दे-

पीनपयोधर प्रबलतम, तन्वी तन का सार।
तासु तुलन मा जानिए, सुबरन गिरि बेकार॥
सुबरन-गिरि बेकार, सदा सबका भरमावै;
रहै कल्पना मध्य, हाथ तँह पहुँचि न पावै।
'ग़ाफ़िल' नैन निहाल, निरखि कुच रचना सुन्दर;
साहस कर कर बढ़ै, हाथ मँह पीनपयोधर॥
                                                                  -ghafil

बेचारा सीबी बाबू

पुस्तकालय-कार्यालयी समस्याओँ से सन्दर्भित प्रस्तुत रचना, सीबी बाबू का 'ग़ाफ़िल' होने से पूर्व की है।
रचना-
बाबू सीबी व्यथित मन, करै किताबी बाँट।
सीत-सरद, गरमी-गरम, मिला पत्थरी पाट॥
मिला पत्थरी पाट, पूर्णत: धूल-धूसरित;
स्वसन गर्द-परिपूर्ण, बाल राखी से विलसित।
उदासीन अफ़सर, हो गर्दा कैसे काबू;
सिर धुनता पछिताय, बेचारा सीबी बाबू॥
                                                              -ghafil