फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

रविवार, जुलाई 23, 2017

सचबयानी

ज़र्द रू, ख़ामोश लब और आँखों में अश्कों का रक्स
इस तरह भी हो रही कुछ सचबयानी, देखिए!

-‘ग़ाफ़िल’
(चित्र गूगल से साभार)