फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

मंगलवार, मई 23, 2017

तू बता तेरा था जो तूने भी क्या जी भर दिया

क्या है रब यह तूने उसके हाथ में ख़ंजर दिया
और मेरे सीने को पत्थर सरीखा कर दिया

तू बता पहले ही कैसे मैं भला देता जवाब
तेरा ख़त बस आज ही तो मुझको नामाबर दिया

कोई तो लौटा दे थोड़ा वक़्त वह मैंने जिसे
जब ज़ुरूरत थी पड़ी तो लोगों को अक़्सर दिया

हो पता तुझको न लेकिन टूटता है यूँ भी जी
जो रटे है यह के मैंने जो दिया बेह्तर दिया

जो भी था मेरा उसे ग़ाफ़िल लुटाया शौक से
तू बता था तेरा जो तूने भी क्या जी भर दिया

-‘ग़ाफ़िल’