फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Sunday, September 04, 2011

बलम जी लउटि चलौ वहि ठाँव

बलम जी लउटि चलौ वहि ठाँव,
सबसे सुन्नर, बहुत पियारा लागै आपन गाँव।
बलम जी लउटि चलौ...

बीते राति सबेरा होई, चिरइन कै कलराँव,
यहि ठौं दिनवा रतियै लागै, घाम कहाँ? कहँ छाँव?
बलम जी लउटि चलौ...

बिछुड़ि गये सब टोल-पड़ोसी, बिछुड़ि गयीं गऊ माँव,
वह नदिया, वह नदी-नहावन, वह निबरू की नाँव।
बलम जी लउटि चलौ...

मोरि मुनरकी सखिया छूटलि, केहि सँग साँझ बिताँव?
ग़ाफ़िल छोट देवरवउ छूटल, अब काको हरचाँव।
बलम जी लउटि चलौ...

-‘ग़ाफ़िल’

21 comments:

  1. अब न लौटे कब लौटोगे अब तो दुखता पांव
    बहुत कठिन है शहरी जीवन, पल पल चलता दांव
    ...बलमुआ लौटि चलो वही ठांव।

    ...बहुत सुंदर कविता है गाफिल जी और आगे बढ़ाइये।

    ReplyDelete
  2. सच में गाँव में ही प्यार है ,स्नेह है ....और सजनी का प्रेम भी

    ReplyDelete
  3. बहुत सुन्दर भाव अभिव्यक्ति बधाई.

    ReplyDelete
  4. bahut sunder shabd shaily to bahut hi pyaari hai.

    ReplyDelete
  5. बीते राति सबेरा होई, चिरइन कै कलराँव,
    यहि ठौं दिनवा रतियै लागै, घाम कहाँ? कहँ छाँव?
    बलमुआ लउटि चलौ...
    --
    बहुत सुन्दर और मधुर!

    ReplyDelete
  6. ग़ाफ़िल छोट देवरवउ छूटल ||

    चिरइन कै कलराँव ||


    बहुत ही प्रभावी प्रस्तुति ||
    सादर अभिनन्दन ||

    ReplyDelete
  7. वाह .सुंदर आंचलिक शब्दों की कविता .....

    ReplyDelete
  8. bahut badhiya shabd-chitran....abhar

    ReplyDelete
  9. !वाह ...बहुत खूब

    ReplyDelete
  10. वाह ,बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ........... मुझे भी गाँव की याद आ गई

    ReplyDelete
  11. बेहद सुन्दर . आंचलिक गीत भाषिक,भाव सौन्दर्य देखते ही बनता है
    बलमुआ लउटि चलौ...
    बीते राति सबेरा होई, चिरइन कै कलराँव,
    यहि ठौं दिनवा रतियै लागै, घाम कहाँ? कहँ छाँव?
    बलमुआ लउटि चलौ...

    ReplyDelete
  12. काश बलमुआ लउटि पाते अपने मन्ने...

    बहुत उम्दा रचना....

    ReplyDelete
  13. आ अब लौट चलें ...बहुत सुंदर और भावपूर्ण रचना

    ReplyDelete
  14. सुन्दर, कोमल अभिव्यक्ति।

    ReplyDelete
  15. घाम कहाँ? कहँ छाँव?

    बहुते बढ़िया!

    ReplyDelete
  16. मोरि मुनरकी सखिया छूटलि, केहि सँग साँझ बिताँव?
    ग़ाफ़िल छोट देवरवउ छूटल, अब काको हरचाँव।

    इस सुंदर लोकगीत की मिठास मन-हृदय में घुल गई।

    ReplyDelete
  17. क्या बात है! लोकरंग की लोकभावन परिकल्पना अपने निराले रंगों में प्रस्फुटित हो रही है ..... सुन्दर अभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  18. बलमुआ लउटि चलौ वहि ठाँव,
    सबसे सुन्नर, बहुत पियारा बाटै आपन गाँव।
    बलमुआ लउटि चलौ.
    ....बहुत सुन्दर अभिव्यक्ति ...

    ReplyDelete