फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Tuesday, November 08, 2011

चिकनी राह बुलाए गाफिल!

मन का घोड़ा बाँध रखा था छोड़ा नहीं मचलने को
पानी सर से ऊपर है अब मौका नहीं सँभलने को

चाँद रहा है मिसाल हरदम रुखे-माहपारावों का
हम हैं के आमादा उसको पावों तले कुचलने को

आता भी है जाता भी है दुनिया का हर एक बसर
भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को

यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल
हुआ बहुत आराम हो अब तैयार भी आगे चलने को

चलता रहता हूँ चलना ही फ़ित्रत है अपनी गोया
चिकनी राह बुलाए ग़ाफ़िल अपनी सिम्त फिसलने को

-‘ग़ाफ़िल’

48 comments:

  1. क्या बात है सर, बहुत सुंदर


    आता भी है जाता भी है दुनिया का हर एक बसर,
    भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को।

    ReplyDelete
  2. बेहतरीन...आनन्द आया.

    ReplyDelete
  3. यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल,
    हुआ बहुत आराम, हो अब तैयार भी आगे चलने को।

    बहुत हि बेहतरीन रचना !

    ReplyDelete
  4. यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल,
    हुआ बहुत आराम, हो अब तैयार भी आगे चलने को।

    Wah ... Bahut Sunder Panktiyan...

    ReplyDelete
  5. आपके पोस्ट पर आना सार्थक लगा । मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । सादर।

    ReplyDelete
  6. चाँद रहा है मिसाल हरदम रुखे-माहपारावों का,
    हम हैं के आमादा उसको पावों तले कुचलने को।
    बेमिसाल!
    पूरी ग़ज़ल अच्छी लगी, यह शे’र बहुत भाया।

    ReplyDelete
  7. मन का घोड़ा बाँध रखा था, छोड़ा नहीं मचलने को।
    पानी सर से ऊपर है, अब मौका नहीं सँभलने को॥

    umdaa....bahut khub

    ReplyDelete
  8. Chalna ne samjhen mazboori
    Chalna to bhai hai jeevan
    Gar ruke thahar hi jaenge
    Bolo jo asatya kaha sajjan!

    ReplyDelete
  9. चन्द्र भूषण जी,...आपकी गजल मुझे अच्छी लगी..प्रभावित होकर मै
    आपका फालोवर बन गया हूँ..मेरे नए पोस्ट में स्वागत है..
    आपसे अनुरोध है की -चर्चा मंच- में नए लोगो को शामिल करे ताकी लोगों में उत्साह बना रहेगा...धन्यबाद

    ReplyDelete
  10. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
  11. चन्द्र भूषण जी,..आप मेरे मुख्य ब्लॉग काव्यांजली में
    नई पोस्ट "वजूद" पर हार्दिक स्वागत है..प्लीज...

    ReplyDelete
  12. bahut achchha lagaa padh kar

    ReplyDelete
  13. आता भी है जाता भी है दुनिया का हर एक बसर,
    भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को।

    ... बहुत खूबसूरत गजल... हरेक शेर लाजवाब...

    ReplyDelete
  14. har ek sher khoobsurat hai.bahut achchi ghazal.

    ReplyDelete
  15. यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल,
    हुआ बहुत आराम, हो अब तैयार भी आगे चलने को।

    गज़ल दिल को छू गई.

    ReplyDelete
  16. हमेशा की तरह बेहतरीन गज़ल.

    ReplyDelete
  17. चन्द्र भूषण जी नमस्कार, यह तो तेरी राह का एक पड़ाव----------- --बहुत खूब लिखा है आपने मेरे ब्लाग पर आपका स्वागत है।

    ReplyDelete
  18. आता भी है जाता भी है दुनिया का हर एक बसर,
    भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को।
    bahut sunder ...

    ReplyDelete
  19. वाह,बहुत उम्दा लिखा है.

    ReplyDelete
  20. आता भी है जाता भी है दुनिया का हर एक बसर,
    भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को।
    .ati sundar!!!

    ReplyDelete
  21. चिकनी राहें बुलाती ही हैं...
    बढ़िया गज़ल...
    सादर...

    ReplyDelete
  22. आपकी किसी पोस्ट की चर्चा है कल शनिवार (12-11-2011)को नयी-पुरानी हलचल पर .....कृपया अवश्य पधारें और समय निकल कर अपने अमूल्य विचारों से हमें अवगत कराएँ.धन्यवाद|

    ReplyDelete
  23. चिकनी राह बुलाए गाफिल! अपनी सिम्त फिसलने को।
    ..वाह!

    ReplyDelete
  24. यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल,
    हुआ बहुत आराम, हो अब तैयार भी आगे चलने को।

    बहुत बढि़या।
    चलते रहना ही जि़ंदगी है।

    ReplyDelete
  25. भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को।
    लगे तो हम सब हैं.

    चिकनी राहे कुछ ज्यादा ही चमकती हैं.

    बढिया गज़ल .

    ReplyDelete
  26. सकारात्मक व सार्थक अभिव्यक्ति ।
    बहुत अच्छे भाव !

    ReplyDelete
  27. बहुत कुछ पठनीय है यहाँ आपके ब्लॉग पर-. लगता है इस अंजुमन में आना होगा बार बार.। मेरे नए पोस्ट पर आपका स्वागत है । धन्यवाद !

    ReplyDelete
  28. शानदार अभिव्यक्ति,

    ReplyDelete
  29. हमेशा की तरह आज भी बेहतरीन सुंदर गजल क्या बात है..बधाई
    मेरे पोस्ट पर आइये स्वागत है ....

    ReplyDelete
  30. बेहतरीन सुंदर गजल क्या बात है

    ReplyDelete
  31. यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल,
    हुआ बहुत आराम, हो अब तैयार भी आगे चलने को।

    बहुत खूब, गाफिल जी, बहुत खूब।
    बढि़या ग़ज़ल है।

    ReplyDelete
  32. समय पर चोट करती खूबसूरत ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  33. गिरता है चलने वाला ही, वो चलना ही फ़ित्रत है,
    चिकनी राह बुलाए गाफिल! अपनी सिम्त फिसलने को।
    बेहतरीन ग़ज़ल गाफ़िल साहब की हर अश आर अलग धार लिए पतवार लिए अर्थों की .

    ReplyDelete
  34. बेहतरीन ग़ज़ल गाफ़िल साहब की हर अश आर अलग धार लिए पतवार लिए अर्थों की .

    ReplyDelete
  35. चाँद रहा है मिसाल हरदम रुखे-माहपारावों का,
    हम हैं के आमादा उसको पावों तले कुचलने को।
    सुन्दर भाव रचना मन भाई इससे पहली रचना भी मन को बंधती है दोनों रचनाएं अति सुन्दर .

    ReplyDelete
  36. सुन्दर भाव रचना मन भाई इससे पहली रचना भी मन को बांधती है बींधती भी है . दोनों रचनाएं अति सुन्दर .

    ReplyDelete
  37. क्या बात है । आपेक पोस्ट ने बहुत ही भाव विभोर कर दिया । मेरे नए पोस्ट पर आपका आमंत्रण है ।

    ReplyDelete
  38. bahut khub...sundar rachna
    welcome to my blog :)

    ReplyDelete
  39. kya baat hai sir

    आता भी है जाता भी है दुनिया का हर एक बसर,
    भरम है तेरा लगा हुआ जो यह दस्तूर बदलने को।

    ReplyDelete
  40. यह तो तेरी रह का एक पड़ाव है यार! नहीं मंजिल,
    हुआ बहुत आराम, हो अब तैयार भी आगे चलने को।

    kya baat hai sir..har sher misaal hai...bahut bahut khoob

    ReplyDelete
  41. अति सुन्दर प्रस्तुति,
    मन भावन गज़ल।
    धन्यवाद
    आनन्द विश्वास

    ReplyDelete