फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

बुधवार, सितंबर 17, 2014

कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में

वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बेवजह,
याद आता है बहुत तुझको गंवा देने के बाद।
कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में,
आरज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा देने के बाद।।

(तअन्नुद=झगड़ना, लड़ाई, आरज़ू-ए-ख़ाम=वह इच्छा जो कभी पूरी न हो, कच्ची इच्छा)

-‘ग़ाफ़िल’

49 टिप्‍पणियां:

  1. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।


    बहुत बढ़िया...

    उत्तर देंहटाएं
  2. कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।

    मन को आंदोलित कर गया । धन्यवाद ।

    उत्तर देंहटाएं
  3. यार! हम पे आईना भी हँस दिया ना जाने क्यूँ?
    ज्यूँ ही निकले सज-संवर कर, आईनाख़ाने के बाद।

    इस ढोंग भरी ज़िन्दगी को जीने के हम आदी हो गये हैं। कितनी सहजता से आपने इसे अपनी इस ग़ज़ल में अभिव्यक्ति दी है। यह बहुत प्रभावित करती ग़ज़ल है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अब तुम्हीं से क्या छुपाएं, सब बता जाने के बाद।
    हम कहाँ भूखे रहे, गम इतना खा जाने के बाद।।

    क़ाबिले-तारीफ ग़ज़ल, हर शेर में बेहतरीन भाव।

    उत्तर देंहटाएं
  5. अम्नो-सुकूँ जाता रहा, दिल के चमन से बारहा,
    एक हंगामा है बरपा, उनके आ जाने के बाद।

    यार! हम पे आईना भी हँस दिया ना जाने क्यूँ?
    ज्यूँ ही निकले सज-संवर कर, आईनाख़ाने के बाद।

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम कहाँ भूखे रहे, ग़म इतना खा जाने के बाद।।
    वाह....
    बहुत खुबसूरत ग़ज़ल सर,
    सादर....

    उत्तर देंहटाएं
  7. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।

    हर शेर उम्दा....एक से बढकर एक......

    उत्तर देंहटाएं
  8. बहुत सुन्दर , सार्थक रचना , सार्थक तथा प्रभावी भावाभिव्यक्ति , ब धाई

    उत्तर देंहटाएं
  9. प्रस्तुति स्तुतनीय है, भावों को परनाम |
    मातु शारदे की कृपा, बनी रहे अविराम ||

    उत्तर देंहटाएं
  10. अब तुम्हीं से क्या छुपाएं, सब बता जाने के बाद।
    हम कहाँ भूखे रहे, ग़म इतना खा जाने के बाद।।

    बहुत ही उम्दा ग़ज़ल...

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही शानदार और लाजबाब ...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।

    बेहतरीन, क़ाबिले-तारीफ ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  13. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।
    kamaal ka likha

    उत्तर देंहटाएं
  14. आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा, लौटा है वो
    चैन से सोया है मेरे दिल में समा जाने के बाद.

    बहुत ही उम्दा गज़ल.

    उत्तर देंहटाएं
  15. वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बे-वज़ह,
    याद आता है बहुत तुझको गंवा जाने के बाद।
    हर मर्तबा की तरह खूबसूरत रोशन अशआर .बधाई .

    उत्तर देंहटाएं
  16. वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बे-वज़ह,
    याद आता है बहुत तुझको गंवा जाने के बाद।

    बहुत ही उम्दा सर...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  17. हर शेर बहुत ही शानदार और लाजबाब ...आभार...

    उत्तर देंहटाएं
  18. अम्नो-सुकूँ जाता रहा, दिल के चमन से बारहा,
    एक हंगामा है बरपा, उनके आ जाने के बाद।
    क्या बात है गाफिल जी बेहद खूबसूरत गज़ल हर शेर बे मिसाल, पर ये मुहब्बत का अंदाज कमाल का है ।

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    उत्तर देंहटाएं




  20. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    उत्तर देंहटाएं
  21. यार! हम पे आईना भी हँस दिया ना जाने क्यूँ?
    ज्यूँ ही निकले सज-संवर कर, आईनाख़ाने के बाद।
    बहुत खूब !नित नया अंदाज़ .गाफ़िल साहब का !

    उत्तर देंहटाएं
  22. सर, आपको पढना वाकई शुकून देने वाला है
    बहुत सुंदर

    उत्तर देंहटाएं
  23. बहुत सुन्दर भावपूर्ण गजल |बधाई |इस पावन पर्व पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  24. नवरात्रि पर्व की शुभकामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  25. वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बे-वज़ह,
    याद आता है बहुत तुझको गंवा जाने के बाद

    बहुत खूब, गाफिल साहिब.
    पूरी ग़ज़ल खूब है.

    उत्तर देंहटाएं
  26. बहुत ही शानदार ग़ज़ल है. कमाल के उर्दू लफ्ज बयां करते है आप. मुबारक.

    उत्तर देंहटाएं
  27. शुक्रिया गाफ़िल साहब !

    कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।

    उत्तर देंहटाएं
  28. सुंदर भाव..खूबसूरत अभिव्यक्ति

    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  29. मिश्र गाफिल जी ...सुन्दर भाव प्यारी रचना गजब का रंग दिया मन को छू गयी ...ये अमन और शुकून काश शीघ्र ....
    ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं .....जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    थोडा व्यस्तता वश कम मिल पा रहे है सबसे क्षमा करना
    भ्रमर ५


    अम्नो-सुकूँ जाता रहा, दिल के चमन से बारहा,
    एक हंगामा है बरपा, उनके आ जाने के बाद।

    उत्तर देंहटाएं
  30. बच्चन जी की रुबाई पे रुबाई बहुत भाई .लालायित अधरों से जिसने ......हर्ष विकंपित कर से जिसने हां न छुआ मधु का प्याला ,दर्द नशा है इस मदिरा का विगत स्मृतियाँ साकी हैं पीड़ा में आनंद जिसे हो आये मेरी मधुशाला .

    उत्तर देंहटाएं
  31. विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
    नवीन सी. चतुर्वेदी

    उत्तर देंहटाएं
  32. विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    उत्तर देंहटाएं
  33. बहुत खूब हर शेर ..बेहद खूबसूरत ....खास कर ये वाला .......
    जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।






    वो जहां भी आज तेरे ज़िक्र पर मजबूर है
    जो चाँद सितारों सी भी कोसो दूर है ||

    भूख प्यास सब मिट जाती है
    किसी को अपना बनाने के बाद ||...........अनु

    उत्तर देंहटाएं
  34. हम कहाँ भूखे रहे, गम इतना खा जाने के बाद।।

    बहुत खूब, सुन्दर भावपूर्ण गजल, गाफिल साहिब.
    पूरी ग़ज़ल खूब है. हर शेर बे-मिसाल है ।

    उत्तर देंहटाएं
  35. कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।
    शुक्रिया गाफ़िल साहब आपकी खूब सूरत दस्तक के लिए .इस बेहतरीन रचना का आस्वाद करवाने के लिए .

    उत्तर देंहटाएं
  36. कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।
    हमें तो यह शेर अच्छा लगा , मुबारक हो

    उत्तर देंहटाएं
  37. Very nice Ghazal Sir..
    What the words placement..Outstanding..

    Regards..!

    उत्तर देंहटाएं
  38. Nice post .

    Bloggers Meet Weekly 14 ke liye yh rachna pasand ki gayee.

    उत्तर देंहटाएं
  39. बहुत ही बढ़िया सर मजा आ गया vaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah

    उत्तर देंहटाएं