फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Wednesday, September 17, 2014

कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में

वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बेवजह,
याद आता है बहुत तुझको गंवा देने के बाद।
कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में,
आरज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा देने के बाद।।

(तअन्नुद=झगड़ना, लड़ाई, आरज़ू-ए-ख़ाम=वह इच्छा जो कभी पूरी न हो, कच्ची इच्छा)

-‘ग़ाफ़िल’

49 comments:

  1. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।


    बहुत बढ़िया...

    ReplyDelete
  2. कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।

    मन को आंदोलित कर गया । धन्यवाद ।

    ReplyDelete
  3. यार! हम पे आईना भी हँस दिया ना जाने क्यूँ?
    ज्यूँ ही निकले सज-संवर कर, आईनाख़ाने के बाद।

    इस ढोंग भरी ज़िन्दगी को जीने के हम आदी हो गये हैं। कितनी सहजता से आपने इसे अपनी इस ग़ज़ल में अभिव्यक्ति दी है। यह बहुत प्रभावित करती ग़ज़ल है।

    ReplyDelete
  4. aapki har ghazal me ek taajgi hoti hai.bahut umda ghazal.

    ReplyDelete
  5. अब तुम्हीं से क्या छुपाएं, सब बता जाने के बाद।
    हम कहाँ भूखे रहे, गम इतना खा जाने के बाद।।

    क़ाबिले-तारीफ ग़ज़ल, हर शेर में बेहतरीन भाव।

    ReplyDelete
  6. अम्नो-सुकूँ जाता रहा, दिल के चमन से बारहा,
    एक हंगामा है बरपा, उनके आ जाने के बाद।

    यार! हम पे आईना भी हँस दिया ना जाने क्यूँ?
    ज्यूँ ही निकले सज-संवर कर, आईनाख़ाने के बाद।

    बहुत खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  7. हम कहाँ भूखे रहे, ग़म इतना खा जाने के बाद।।
    वाह....
    बहुत खुबसूरत ग़ज़ल सर,
    सादर....

    ReplyDelete
  8. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।

    हर शेर उम्दा....एक से बढकर एक......

    ReplyDelete
  9. बहुत सुन्दर , सार्थक रचना , सार्थक तथा प्रभावी भावाभिव्यक्ति , ब धाई

    ReplyDelete
  10. प्रस्तुति स्तुतनीय है, भावों को परनाम |
    मातु शारदे की कृपा, बनी रहे अविराम ||

    ReplyDelete
  11. अब तुम्हीं से क्या छुपाएं, सब बता जाने के बाद।
    हम कहाँ भूखे रहे, ग़म इतना खा जाने के बाद।।

    बहुत ही उम्दा ग़ज़ल...

    ReplyDelete
  12. बहुत ही शानदार और लाजबाब ...

    ReplyDelete
  13. हर शेर बेहतरीन.

    ReplyDelete
  14. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।

    बेहतरीन, क़ाबिले-तारीफ ग़ज़ल

    ReplyDelete
  15. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल लिखी है आपने!
    बेहतरीन!

    ReplyDelete
  16. जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।
    kamaal ka likha

    ReplyDelete
  17. आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा, लौटा है वो
    चैन से सोया है मेरे दिल में समा जाने के बाद.

    बहुत ही उम्दा गज़ल.

    ReplyDelete
  18. वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बे-वज़ह,
    याद आता है बहुत तुझको गंवा जाने के बाद।
    हर मर्तबा की तरह खूबसूरत रोशन अशआर .बधाई .

    ReplyDelete
  19. वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बे-वज़ह,
    याद आता है बहुत तुझको गंवा जाने के बाद।

    बहुत ही उम्दा सर...
    सादर...

    ReplyDelete
  20. हर शेर बहुत ही शानदार और लाजबाब ...आभार...

    ReplyDelete
  21. अम्नो-सुकूँ जाता रहा, दिल के चमन से बारहा,
    एक हंगामा है बरपा, उनके आ जाने के बाद।
    क्या बात है गाफिल जी बेहद खूबसूरत गज़ल हर शेर बे मिसाल, पर ये मुहब्बत का अंदाज कमाल का है ।

    ReplyDelete
  22. आपको मेरी तरफ से नवरात्री की ढेरों शुभकामनाएं.. माता सबों को खुश और आबाद रखे..
    जय माता दी..

    ReplyDelete




  23. आपको सपरिवार
    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  24. यार! हम पे आईना भी हँस दिया ना जाने क्यूँ?
    ज्यूँ ही निकले सज-संवर कर, आईनाख़ाने के बाद।
    बहुत खूब !नित नया अंदाज़ .गाफ़िल साहब का !

    ReplyDelete
  25. सर, आपको पढना वाकई शुकून देने वाला है
    बहुत सुंदर

    ReplyDelete
  26. बहुत सुन्दर भावपूर्ण गजल |बधाई |इस पावन पर्व पर हार्दिक शुभ कामनाएं |
    आशा

    ReplyDelete
  27. नवरात्रि पर्व की शुभकामनाएं.

    ReplyDelete
  28. वो तअन्नुद आपका हमसे हमेशा बे-वज़ह,
    याद आता है बहुत तुझको गंवा जाने के बाद

    बहुत खूब, गाफिल साहिब.
    पूरी ग़ज़ल खूब है.

    ReplyDelete
  29. बहुत ही शानदार ग़ज़ल है. कमाल के उर्दू लफ्ज बयां करते है आप. मुबारक.

    ReplyDelete
  30. शुक्रिया गाफ़िल साहब !

    कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।

    ReplyDelete
  31. सुंदर भाव..खूबसूरत अभिव्यक्ति

    नवरात्रि पर्व की बधाई और शुभकामनाएं-मंगलकामनाएं !

    ReplyDelete
  32. मिश्र गाफिल जी ...सुन्दर भाव प्यारी रचना गजब का रंग दिया मन को छू गयी ...ये अमन और शुकून काश शीघ्र ....
    ढेर सारी हार्दिक शुभ कामनाएं .....जय माता दी आप सपरिवार को ढेर सारी शुभ कामनाएं नवरात्रि पर -माँ दुर्गा असीम सुख शांति प्रदान करें
    थोडा व्यस्तता वश कम मिल पा रहे है सबसे क्षमा करना
    भ्रमर ५


    अम्नो-सुकूँ जाता रहा, दिल के चमन से बारहा,
    एक हंगामा है बरपा, उनके आ जाने के बाद।

    ReplyDelete
  33. खूबसूरत ग़ज़ल ....हर शेर उम्दा

    ReplyDelete
  34. बच्चन जी की रुबाई पे रुबाई बहुत भाई .लालायित अधरों से जिसने ......हर्ष विकंपित कर से जिसने हां न छुआ मधु का प्याला ,दर्द नशा है इस मदिरा का विगत स्मृतियाँ साकी हैं पीड़ा में आनंद जिसे हो आये मेरी मधुशाला .

    ReplyDelete
  35. विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं। बुराई पर अच्छाई की विजय का प्रतीक यह पर्व, सभी के जीवन में संपूर्णता लाये, यही प्रार्थना है परमपिता परमेश्वर से।
    नवीन सी. चतुर्वेदी

    ReplyDelete
  36. विजयादशमी पर आपको सपरिवार हार्दिक शुभकामनाएं।

    ReplyDelete
  37. बहुत खूब हर शेर ..बेहद खूबसूरत ....खास कर ये वाला .......
    जब चले थे तो नहीं सोचे थे के हो जाएगा
    हादिसा-ए-फ़ाजिअः, मंजिल को पा जाने के बाद।






    वो जहां भी आज तेरे ज़िक्र पर मजबूर है
    जो चाँद सितारों सी भी कोसो दूर है ||

    भूख प्यास सब मिट जाती है
    किसी को अपना बनाने के बाद ||...........अनु

    ReplyDelete
  38. हम कहाँ भूखे रहे, गम इतना खा जाने के बाद।।

    बहुत खूब, सुन्दर भावपूर्ण गजल, गाफिल साहिब.
    पूरी ग़ज़ल खूब है. हर शेर बे-मिसाल है ।

    ReplyDelete
  39. कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।
    शुक्रिया गाफ़िल साहब आपकी खूब सूरत दस्तक के लिए .इस बेहतरीन रचना का आस्वाद करवाने के लिए .

    ReplyDelete
  40. सुंदर प्रस्तुति!

    ReplyDelete
  41. कौन पूछे है भला ग़ाफ़िल को अब इस हाल में
    आर्ज़ू-ए-ख़ाम पे सब कुछ लुटा जाने के बाद।।
    हमें तो यह शेर अच्छा लगा , मुबारक हो

    ReplyDelete
  42. Very nice Ghazal Sir..
    What the words placement..Outstanding..

    Regards..!

    ReplyDelete
  43. दिवाली मुबारक हो !

    ReplyDelete
  44. Nice post .

    Bloggers Meet Weekly 14 ke liye yh rachna pasand ki gayee.

    ReplyDelete
  45. बहुत ही बढ़िया सर मजा आ गया vaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaaah

    ReplyDelete