फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

बुधवार, मई 02, 2012

कुछ कुण्डलियाँ-

1-
नारी संग से क्यों डरे, नारी सुख कर धाम।
नारी बिन रघुपतिहुँ कर, होत अधूरा नाम।।
होत अधूरा नाम, कहन मां नाहिं सुहायी,
नारी नर-मन-कलुस पलक मह दूर भगाई,
खिला पुष्प बिन ना सुहाइ जइसै फुलवारी,
ग़ाफ़िल मन बगिया वइसै लागै बिन नारी।।
2-
घर का मुखिया करमठी, रचता नये पिलान।
विकसित हो यह घर सदा बढ़ै मान-सम्मान।।
बढ़ै मान-सम्मान, सबहि मिलि काम करैंगे।
हंसी-खुशी से सबकी झोली रोज़ भरैंगे।
कछुक स्वारथी डारे हैं मन बीच तफ़रका।
ग़फ़िलौ सोचै का होई अब गति यहि घर का।।
3-
बातहिं बात बनाइये, बात बने बनिजात।
देखा बातहिं बात मह, भिश्ती नृपति कहात।।
भिश्ती नृपति कहात, होत दिल्ली कर राजा।
सिक्का चाम चलाइ, बजावत आपन बाजा।
ग़ाफ़िल कहै बिचारि, बैठिहौं पीपल पातहिं।
बात बिगरि जौ जाय, तिहारो बातहिं बातहिं।।
                                                                        -ग़ाफ़िल

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

19 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत बढ़िया प्रस्तुति,प्रभावित करती सुंदर कुण्डलियाँ ,.....

    MY RECENT POST.....काव्यान्जलि.....:ऐसे रात गुजारी हमने.....

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह जी वाह..........
    बहुत सुन्दर

    सादर.

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत ही सुन्दर
    प्रभावी रचना....

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह बहुत रोचक कुंडलियाँ पेश की हैं गाफिल जी ....बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  5. बहुत ही अच्छी कुंडलियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर कुंडलियाँ|

    उत्तर देंहटाएं
  7. yah hai ghafi jee ka ek abaur rang..kamal hai sir..kabhi umda ghazlein, kabhi bhojpurime rachnayein..kabhi ghafil ka dhaba jaisi rachna..aaj kundliyan..in kunliyon me fasa hee liya aapne..sadar badhayee ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  8. कछुक स्वारथी डारे हैं मन बीच तफ़रका।
    ग़फ़िलौ सोचै का होई अब गति यहि घर का।।

    WAAH BHAI WAAAAAAH

    उत्तर देंहटाएं
  9. भावनायों की अभिव्यक्ति बेहद संजीदगी से बयान कर गए ....आभार

    उत्तर देंहटाएं
  10. मिश्र जी !जीतनी सिद्धहस्तता आपकी उर्दू ,व खड़ी बोली में है ,उतनी ही क्षेत्रीय भाषा में भी देखने को मिलती है ,बहुत सुन्दर लेखन ..प्रसंशनीय सृजन ....शुभकामनायें जी /

    उत्तर देंहटाएं
  11. कछुक स्वारथी डारे हैं मन बीच तफ़रका।
    ग़फ़िलौ सोचै का होई अब गति यहि घर का।।

    WAAH BHAI WAAAAAAH

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह गाफ़िल साहब इतनी बढ़िया कुंडली आप लिख दिए और हम बे -खबर रहे .चलो देर आयद दुरुस्त आयद कुंडली का मज़ा और बढ़ गया .

    उत्तर देंहटाएं
  13. हिम्मत देखी आप की गया पसीना छुट
    नारी संग होती मेरे, बटुए की ही लूट

    उत्तर देंहटाएं
  14. आपकी इस उत्कृष्ठ प्रविष्टि की चर्चा कल मंगल वार १५ /५/१२ को राजेश कुमारी द्वारा चर्चा मंच पर की जायेगी |

    उत्तर देंहटाएं
  15. कछुक स्वारथी डारे हैं मन बीच तफ़रका।
    ग़फ़िलौ सोचै का होई अब गति यहि घर का।।

    wah bhai Gafil ji .....apki kundaliyon ko padh kr maja aa gaya ....hardik badhai ke sath abhar.

    उत्तर देंहटाएं