फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

रविवार, सितंबर 30, 2012

आईने पर कुछ तरस तो खाइए!

आइए तो इत्तिलाकर आइए!
जाइए तो बिन बताए जाइए!

दिल मेरा है साफ़ मिस्ले-आईना,
अपने चेहरे को तो धोकर आइए!

पाइए! जी पाइए! बेहद सुकूँ,
चश्म ख़म करके ज़रा मुस्काइए!

रूख़ को झटके से नहीं यूँ मोड़िए!
आईने पर कुछ तरस तो खाइए!

हुस्न है बा-लुत्फ़ जो पर्दे में हो,
आईने से भी कभी शर्माइए!

छोड़िए! 'ग़ाफ़िल' को उसके नाम पर,
आप तो ग़ाफ़िल नहीं हो जाइए!

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

12 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुंदर गजल ....
    हर शेर काबिले तारीफ ...गाफ़िल जी ॥

    उत्तर देंहटाएं
  2. वाह,,,,क्या बात है गाफिल जी,,,,बहुत सुंदर गजल,,,,

    RECENT POST : गीत,

    उत्तर देंहटाएं
  3. दिल मेरा है साफ़ मिस्ले-आईना,
    अपने चेहरे को तो धोकर आइए!
    वाह , बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा कल सोमवार (01-10-2012) के चर्चा मंच पर भी होगी!
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. आईने पर कुछ तरस तो खाइए!
    आइए तो इत्तिलाकर आइए!
    जाइए तो बिन बताए जाइए!

    दिल मेरा है साफ़ मिस्ले-आईना,
    अपने चेहरे को तो धोकर आइए!

    पाइए! जी पाइए! बेहद सुकूँ,
    चश्म ख़म करके ज़रा मुस्काइए!

    रूख़ को झटके से नहीं यूँ मोड़िए!
    आईने पर कुछ तरस तो खाइए!

    हुस्न है बा-लुत्फ़ जो पर्दे में हो,
    आईने से भी कभी शर्माइए!

    छोड़िए! 'ग़ाफ़िल' को उसके नाम पर,
    आप तो ग़ाफ़िल नहीं हो जाइए!

    आइये आजाइए आजाइए ,

    यूं न रह रहके हमें तरसाइए .

    छोडये सरकार को उसके रहम ,

    अब न रह रह तरस उसपे खाइए .

    क्या बात है गाफ़िल साहब कहतें हैं सब्र का फल मीठा होता है आते आप देर से हैं लेकिन सजसंवर के आतें हैं ,बढ़िया अश आर लातें हैं .

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत सुंदर !
    वो आते हैं चले जाते है
    हमे पता कहाँ चलता है
    अपनी हर खबर तो वो
    सिर्फ आईने को ही बताते हैं !

    उत्तर देंहटाएं
  7. behtareen prastuti,"kuch chehron ki narazi se darpan nahi dara krte hai

    उत्तर देंहटाएं
  8. जब भी समय मिले, मेरे नए ब्लाग पर जरूर आएं..
    http://tvstationlive.blogspot.in/2012/09/blog-post.html?spref=fb

    उत्तर देंहटाएं