फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

गुरुवार, मई 29, 2014

धोई-धाई सी मक्कारी

ये दुनियाबी बातें लिखना
दिन को लिखना रातें लिखना
लिखना अरमानों की डोली
कैसे मुनिया मुनमुन हो ली
धन्धा-पानी ठंढी-गर्मी
चालाकी हँसती बेशर्मी
मिलन की रातें रोज़ जुदाई
दिल की दिल से हाथापाई
दिनभर ठगना और ठगाना
वादों का मुरझा सा जाना
ग़ाफ़िल है यह दुनियादारी
धोई-धाई सी मक्कारी

6 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी यह उत्कृष्ट प्रस्तुति कल शुक्रवार (30.05.2014) को "समय का महत्व " (चर्चा अंक-1628)" पर लिंक की गयी है, कृपया पधारें और अपने विचारों से अवगत करायें, वहाँ पर आपका स्वागत है, धन्यबाद।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मक्कारी का लिबास साफ़-सुथरा ही दिखता है...

    उत्तर देंहटाएं
  3. धोई धोई सी मक्कारी, वाह ।

    उत्तर देंहटाएं
  4. एक एक शब्द मानो दिल में पसर गया हो..बहुत उम्दा...

    उत्तर देंहटाएं
  5. मिलन की रातें रोज़ जुदाई
    दिल की दिल से हाथापाई
    दिनभर ठगना और ठगाना
    वादों का मुरझा सा जाना
    ग़ाफ़िल है यह दुनियादारी
    धोई-धाई सी मक्कारी
    क्या बात है !

    उत्तर देंहटाएं