फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

बुधवार, अक्तूबर 29, 2014

बड़ी मुश्क़िल से मिलती है

कभी गाहे बगाहे आदतन ग़ाफ़िल से मिलती है
मगर जब भी ये मिलती है हमेशा दिल से मिलती है
अगर ख़ुद नींद आ जाए तो समझो ख़ुद को क़िस्मतवर
ये दौलत इस ज़माने में बड़ी मुश्क़िल से मिलती है

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें