फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

Tuesday, October 30, 2018

मुनासिब है मेरी ग़ज़ल गुनगुनाए

अब इक और यह भी सितम हमपे हाए!
हुआ एक अर्सा न तुम याद आए!!

कहूँ क्यूँ के मुझको गले से लगा लो
भले जान अपनी अभी छूट जाए

भले सेंंकनी थी तुम्हें लेकिन आतिश
थे हम ही जो दामन में अपने लगाए

हुआ कुछ तो हासिल मुहब्बत से ग़ाफ़िल
सनम बेवफ़ा है यही जान पाए

न जीने का हो और जिसके वसील:
मुनासिब है मेरी ग़ज़ल गुनगुनाए

-‘ग़ाफ़िल’

No comments:

Post a Comment