फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

बुधवार, दिसंबर 03, 2014

बस वही दूर हुआ जा रहा मंजिल की तरह

मैंने भी चाहा बहुत जिसको जानो दिल की तरह।
दूर हो जाता वही वक़्त पे मंजिल की तरह।।

ज़ुल्फ़े ज़िन्दाँ में हूँ मैं क़ैद एक मुद्दत से,
कोई आ जाये मेरे वास्ते काफ़िल की तरह।

उसकी तीरे नज़र है, रू-ब-रू दिल है मेरा,
पेश आये तो कभी हाय वो क़ातिल की तरह।

उम्र का लम्बा सफ़र तय किया तन्हा मैंने,
अब चले साथ कोई चाहे मुक़ाबिल की तरह।

मेरे अरमानों का ख़ूँ उसकी उंगुलियों के पोर,
क्या जमे ख़ूब ही हिना-ए-अनामिल की तरह।

आज आवारगी-ए-दिल का मेरे सोहरा है,
तेरे कूचे में जो भटके है वो ग़ाफ़िल की तरह।।

(ज़ुल्‍फ़ ज़िन्‍दाँ=ज़ुल्फ़ों का क़ैदखाना, काफ़िल=ज़ामिन, हिना-ए-अनामिल=उँगलियों के सिरों पर की मेंहदी)
                                                                    -ग़ाफ़िल

21 टिप्‍पणियां:

  1. चर्चा मंच के साप्ताहिक काव्य मंच पर आपकी प्रस्तुति मंगलवार 31 - 05 - 2011
    को ली गयी है ..नीचे दिए लिंक पर कृपया अपनी प्रतिक्रिया दे कर अपने सुझावों से अवगत कराएँ ...शुक्रिया ..

    साप्ताहिक काव्य मंच --- चर्चामंच

    उत्तर देंहटाएं
  2. आदरणीया संगीता जी नमस्ते!
    प्रथमतः मेरी रचना चर्चा मंच पर शामिल करने के लिए आपको कोटिशः धन्यवाद। आज के चर्चा मंच पर आपने जिन मोतियों की बानगी रखी है वो सभी वाकई अनमोल हैं। इनमें आनन्द द्विवेदी जी की ग़ज़ल ‘ख़त लिख रहा हूँ तुमको’, वंदना गुप्ता जी की प्रस्तुति ‘प्रेम का कैनवास’, बाबूषा की ‘मैं एक स्लेटी पहाड़ी हूँ’, आकुल जी की ‘इस तरह से’, रेखा जी का ‘दर्द किसी सूने घर का’ अरुण कुमार निगम की रचना ‘चैत की चंदनिया’ डॉ0 कविता किरण जी की ग़ज़ल ‘अमृत पीकर भी है मानव मरा हुआ’, सैल जी की ग़ज़ल ‘ग़ज़ल में अब मज़ा है क्या’, रश्मि प्रभा जी की रचना ‘अमृत देवता के हाथ’ तथा अन्य सभी रचनाएँ मन के तार को झंकृत कर देने में पुर्णतः सक्षम हैं। समीर लाल जी ‘समीर’ की ग़ज़ल ‘अभी कुछ और बाकी है विशेष उल्लेखनीय है। समीर लाल जी बड़े हस्ताक्षर हैं, उनके बारे में कुछ भी कहना सूरज को दीया दिखाना ही है। पुनः बहुत-बहुत आभार।
    -ग़ाफ़िल

    उत्तर देंहटाएं
  3. मेरे अरमानों का खूँ उसकी उंगुलियों के पोर,
    क्या जमे ख़ूब ही हिना-ए-अनामिल की तरह
    बहुत खूब.
    संगीता जी की चर्चा से यहाँ तक पहुंची और आपके ब्लॉग पढकर सुखद एहसास हुआ.

    उत्तर देंहटाएं
  4. ग़ाफ़िल सर!
    चर्चा मंच जैसा प्लेटफार्म आपकी रचना को मिला, बधाई! वैसे यह अनायास नहीं है। आपका प्रयास दिल को छू लेता है- ‘‘पेश आये तो कभी हाय वो कातिल की तरह’’। बहुत अच्छा।।

    उत्तर देंहटाएं
  5. es saflata ke liye hardik badhai.... such hi hai baat niklegi to phir door talak jayegi...

    उत्तर देंहटाएं
  6. आप सभी सुधी जनों को मेरी रचना मनोयोग से पढ़ने और उस पर टिप्पणी करने के लिए हार्दिक धन्यवाद। मयंक जी से आग्रह है कि आइंदा भी इसी तरह हमें प्रोत्साहित करते रहेंगे। उनका प्रोत्साहन मेरे लिए ख़ास है।
    -ग़ाफ़िल

    उत्तर देंहटाएं
  7. सच है मंज़िल दूर ही होती जाती है...बहुत बढ़िया, बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहतरीन गजल गाफिल साहब ||
    बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  9. शनिवार १७-९-११ को आपकी पोस्ट नयी-पुरानी हलचल पर है |कृपया पधार कर अपने सुविचार ज़रूर दें ...!!आभार.

    उत्तर देंहटाएं
  10. मेरे अरमानों का खूँ उसकी उंगुलियों के पोर,
    क्या जमे ख़ूब ही हिना-ए-अनामिल की तरह।

    बेहतरीन गज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  11. बहुत ही बढ़िया । सुन्दर..|

    उत्तर देंहटाएं
  12. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने हर पंक्ति बेहतरीन बन पड़ी है ।

    उत्तर देंहटाएं
  13. उम्र का लम्बा सफ़र तै किया तन्हा मैंने,
    अब चले साथ कोई चाहे मुक़ाबिल की तरह।

    अब क्या फर्क पड़ता है .......वाह गाफिल जी !

    उत्तर देंहटाएं
  14. बहुत खूबसूरती सेजीवन का फ़लसफ़ा व्यक्त किया है!

    उत्तर देंहटाएं