फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, मई 10, 2013

भ्रमित, स्तब्ध

आज
चला गया सहसा
अपने पार्श्व अवस्थित कमरे में
जो
मेरी जी से भी प्यारी राजदुलारी का है
जिसे
मैंने कल ही तो बिदा किया है
भ्रमित, स्तब्ध
देखता रहा मैं
सब रो रहे हैं धार-धार
कमरे के दरो-दीवार,
पलंग, बिस्तर, आदमकद आईना
या कि मेरी आँखें

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

10 टिप्‍पणियां:

  1. भ्रमित नहीं हों ,आपकी आँखें आपकी दिल की बात बता रही है
    डैश बोर्ड पर पाता हूँ आपकी रचना, अनुशरण कर ब्लॉग को
    अनुशरण कर मेरे ब्लॉग को अनुभव करे मेरी अनुभूति को
    latest post'वनफूल'
    latest postअनुभूति : क्षणिकाएं

    उत्तर देंहटाएं
  2. मैंने कल ही तो बिदा किया है
    भ्रमित, स्तब्ध
    देखता रहा मैं
    सब रो रहे हैं धार-धार
    कमरे के दरो-दीवार,
    पलंग, बिस्तर, आदमकद आईना
    या कि मेरी आँखें

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत सुन्दर प्रस्तुति...!
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज शनिवार (11-05-2013) क्योंकि मैं स्त्री थी ( चर्चा मंच- 1241) में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत ही बेहतरीन भावपूर्ण रचना,आभार आदरणीय.

    उत्तर देंहटाएं
  5. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए कल 12/05/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक होगा http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिएगा एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  6. महसूस होती रचना ..शानदार शब्द चित्र ..सादर बधाई के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  7. बेटी की बिदाई का दर्द महसूस कर रही हूँ ....सादर

    उत्तर देंहटाएं
  8. Bahut hi gambhir rachana .....mai to jan hi nahi paaya ....

    उत्तर देंहटाएं