फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, नवंबर 11, 2016

वह राबिता भी क्या न जहाँ दिल्लगी रहे

क्या लुत्फ़ हो के तू जूँ उफनती नदी रहे,
डूबूँ मैं तुझमें, साथ मेरी तिश्नगी रहे

मौला करे लगे न किसी की नज़र कभी
ज़ीनत-ए-रू-ए-जाना हमेशा बनी रहे

यूँ भी न पेश आए के पूरा गँवा दूँ होश
लेकिन तू यह करे के ज़रा बेख़ुदी रहे

माना के दिल्लगी से ज़रर भी हुआ, मगर
वह राबिता भी क्या न जहाँ दिल्लगी रहे

क्यूँ बन सँवर के ख़ुद को सयाना दिखा रहा
ग़ाफ़िल रहा है और तू अब भी वही रहे

-‘ग़ाफ़िल’

3 टिप्‍पणियां: