फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

गुरुवार, नवंबर 24, 2016

सोचता हूँ तो है मुद्दआ कुछ नहीं

वस्ल का हिज़्र का सिलसिला कुछ नहीं
या के जी में तेरे था हुआ कुछ नहीं

लोग पाए हैं तुझसे बहुत कुछ अगर
तो मुझे भी मिला देख क्या कुछ नहीं

आदमी आदमी से परीशाँ है, क्या
आदमी आदमी का भला कुछ नहीं!

हाले दिल कह न पाया किसी तर्ह तो
कह दिया बस के जी! माज़रा कुछ नहीं

चाहता हूँ मैं लड़ता रहूँ यार से
सोचता हूँ तो है मुद्दआ कुछ नहीं

आईने की शिक़ायत भला क्यूँ मिंयाँ?
वह दिखाता है बस, देखता कुछ नहीं

फिर भी ग़ाफ़िल है रुस्वा हुआ इश्क़ में
जबके सब मानते हैं ख़ता कुछ नहीं

-‘ग़ाफ़िल’

1 टिप्पणी: