फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Saturday, December 10, 2016

सब हमारा ही नाम लेते हैं

जामे लब शब् तमाम लेते हैं
लेकिन उल्फ़त के नाम लेते हैं

दिल पे तीरे नज़र चलाके ग़ज़ब
आप भी इंतकाम लेते हैं

ज़िक़्रे आशिक़ अगर हो महफ़िल में
सब हमारा ही नाम लेते हैं

था न मालूम इश्क़ में बेगार
आप भी सुब्हो शाम लेते हैं

काढ़ा-ए-दीद, हम मुहब्बत का
जब भी होता जुक़ाम, लेते हैं

इश्क़ हमने किया है पर टेंशन
याँ क्यूँ हर ख़ासो आम लेते हैं

छूट जाए मजाल क्या ग़ाफ़िल
हम कलाई जो थाम लेते हैं

-‘ग़ाफ़िल’

No comments:

Post a Comment