फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, अक्तूबर 13, 2017

कौन है वह क़िस्मतवर

गर नहीं मैं हूँ तो फिर कौन है वह क़िस्मतवर
रात जिसके ही तसव्वुर में गुज़रती है तेरी

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें