फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

Tuesday, August 13, 2019

या के जज़्बातों में उलझे हुए हालात कहूँ

रोज़ क्यूँ वो ही कहा जाए जो भाए सबको
है बुरा क्या जो कभी रात को मैं रात कहूँ
आप कहिए! के कहूँ आप जो कहने को कहें
या के जज़्बातों में उलझे हुए हालात कहूँ

-‘ग़ाफ़िल’

2 comments:

  1. This is my first visit to your blog! We are a team of volunteers and new initiatives in the same niche

    Hey there, You’ve done a fantastic job. I’ll certainly digg it and personally
    recommend to my friends. I’m sure they’ll be benefited from this site.

    klinik aborsi
    biaya aborsi
    biaya kuret
    klinik aborsi bandung
    klinik kuret
    klinik aborsi aman
    klinik aborsi jakarta barat
    klinik aborsi raden saleh
    klinik aborsi legal

    ReplyDelete