फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, मई 17, 2013

अब तो उनको आजमाना चाहिए

अब हमें भी हक़ जताना चाहिए।
अब तो उनको आजमाना चाहिए॥

कब तलक होकर जमाने के रहें,
अब हमें ख़ुद का जमाना चाहिए।

है दीवाना चश्म का ख़ुशफ़ह्म के
चश्म को भी अब दीवाना चाहिए।

दिल है नाज़ुक टूटता है बेखटक,
भीड़ में उसको बचाना चाहिए।

उनके आने का बहाना कुछ न था,
उनको जाने का बहाना चाहिए।

अब तो शायद हो चुकी पूरी ग़ज़ल,
यार ग़ाफ़िल! अब तो जाना चाहिए॥

हाँ नहीं तो!

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

9 टिप्‍पणियां:

  1. बहुत सुन्दर ग़ज़ल ...हर शेर लाजवाब ...!!

    उत्तर देंहटाएं
  2. आपकी इस प्रविष्टी की चर्चा शनिवार(18-5-2013) के चर्चा मंच पर भी है ।
    सूचनार्थ!

    उत्तर देंहटाएं
  3. देहक़ान बसा झोपड़ा महलो-मालो साह ।
    हक़ मिलै न हक्क़े-नाहक़ माँगे कौन पनाह ॥

    भावार्थ : -- किसान/गांववासी का झोपड़े में भी निर्वाह नहीं,
    और राजा राजसी जीवन व्यतीत कर रहा है । न अधिकार
    मिले, न ही न्याय मिले, अब वह किसकी शरण में जाए ॥

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर प्रस्तुति!
    साझा करने के लिए आभार!

    उत्तर देंहटाएं
  5. है दीवाना चश्म का ख़ुशफ़ह्म के
    चश्म को भी अब दीवाना चाहिए।...बेहतरीन लेकिन आपसे थोडा और समझना पड़ेगा इस शेर को..सादर

    उत्तर देंहटाएं
  6. दिल है नाज़ुक टूटता है बेखटक,
    भीड़ में उसको बचाना चाहिए।

    wah sir behtreen gazal ke liye aabhar .

    उत्तर देंहटाएं