फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

मंगलवार, जून 18, 2013

मैं तुझे आजमा के देख लिया

ख़ूब अपना बना के देख लिया
मैं तुझे आजमा के देख लिया
तुझको ख़ुश देखने की ख़्वाहिश में
मैंने ख़ुद को गंवा के देख लिया

बात करके मुझे बेज़ार न कर!
हो चुका ख़ूब अब लाचार न कर!
तेरी ख़ुदगर्ज़ियाँ छुपी न रहीं
बख़्श दे मुझको और प्यार न कर!

अब तो अपना जमाना चाहता हूँ
ख़ुद को अब आजमाना चाहता हूँ
तेरी ख़ुशियों से मैं क्यूँ ख़ुश होऊँ
ख़ुद की ख़ुशियों में जाना चाहता हूँ।।

10 टिप्‍पणियां:

  1. मित्रों..!
    आजकल उत्तराखण्ड में बारिश और बाढ़ का कहर है। जिससे मैं भी अछूता नहीं हूँ। विद्युत आपूर्ति भी ठप्प है और इंटरनेट भी बाधित है। आज बड़ी मुश्किल से नेट चला है।
    --
    आपको सूचित करते हुए हर्ष हो रहा है कि आपकी इस प्रविष्टि की चर्चा आज बुधवार (19-06-2013) को तड़प जिंदगी की ---बुधवारीय चर्चा 1280 में "मयंक का कोना" पर भी है!
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. जिंदगी का हर पहलूँ पढ़ने को मिला ...खुद से खुशी को पा लेने का सबब मिला .....बहुत खूब

    उत्तर देंहटाएं
  3. आपने लिखा....हमने पढ़ा
    और लोग भी पढ़ें;
    इसलिए आज 20/06/2013 को आपकी पोस्ट का लिंक है http://nayi-purani-halchal.blogspot.in पर
    आप भी देख लीजिए एक नज़र ....
    धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  4. बेहतरीन भाव ... बहुत सुंदर रचना प्रभावशाली प्रस्तुति

    उत्तर देंहटाएं
  5. तुझको ख़ुश देखने की ख़्वाहिश में
    मैंने ख़ुद को गंवा के देख लिया..एक शानदार नज्म ..लेकिन सर तेरी ख़ुशियों से मैं क्यूँ ख़ुश होऊँ आप जैसा शायर लिख तो रहा है पर ऐसा है नहीं ..बधाई के साथ

    उत्तर देंहटाएं
  6. अब तो अपना जमाना चाहता हूँ
    ख़ुद को अब आजमाना चाहता हूँ
    तेरी ख़ुशियों से मैं क्यूँ ख़ुश होऊँ
    ख़ुद की ख़ुशियों में जाना चाहता हूँ।।


    बहुत बढ़िया अन्वेषण हैं स्व :दर्शन हैं .ॐ शान्ति

    उत्तर देंहटाएं