फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

मंगलवार, फ़रवरी 03, 2015

कुछ अलाहदा शे’र : वस्ल की रूह थरथराती है

1.
वक़्त के ताबे आफ़्ताबी निभाई हँसके,
वर्ना ग़ाफ़िल तो चाँदनी से भी जला अक्सर।
2.
आज बरसात हो रही जमकर जल रहा दिल का यह नगर फिर भी,
है सरे राह कोहे दुश्वारी गुज़र रही है पर उमर फिर भी।
3.
ऐ ग़ाफ़िल इश्क़ से उकता गये सब,
गोया के हाशिए पर आ गये सब।
4.
तू जो दूर हो तो भी होश गुम, तू जो पास है तो भी होश गुम,
ऐ शराब सी मेरी ज़िन्दगी तेरे साथ कैसे सफ़र करूँ?
5.
हिज़्र ने इस क़दर सताया के
वस्ल की रूह थरथराती है।
6.
जो तलाशोगे तो दिल में ही ख़ुद के पाओगे,
ये हम उश्शाक़ सरे राह नहीं मिलते हैं।
7.
वफ़ादारी निभाने में ही करता उम्र क्यूँ गश्ता,
जफ़ाओं की जो ऐसी यादगारी का पता होता।
8.
अपनों ने जनाज़े को तो रुख़्सत था कर दिया,
पल भर को सही रोक लिया राह का पत्थर।
9.
जिसने मेरे जिगर को किया था लहूलुहान,
आती है याद फिर वो तेरी सैफ़-ए-नज़र।
10.
फ़र्क़ क्या पड़ता है कोई ख़ुश है के नाराज़ है,
है यही क्या कम के अब भी चल रहा है सिलसिला।

4 टिप्‍पणियां:

  1. सार्थक प्रस्तुति।
    --
    आपकी इस प्रविष्टि् की चर्चा कल बुधवार (04-02-2015) को रहे विपक्षी खीज, रात दिन बढ़ता चंदा ; चर्चा मंच 1879 पर भी होगी।
    --
    सूचना देने का उद्देश्य है कि यदि किसी रचनाकार की प्रविष्टि का लिंक किसी स्थान पर लगाया जाये तो उसकी सूचना देना व्यवस्थापक का नैतिक कर्तव्य होता है।
    --
    हार्दिक शुभकामनाओं के साथ...
    सादर...!
    डॉ.रूपचन्द्र शास्त्री 'मयंक'

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही उम्दा शेर।फुर्सत के समय में मेंरे ब्लाग rajeshkavya.blogspot.com पर आप का स्वागत है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. बहुत अच्छे लगे आपके ये अशआर।
    आपके वस्ल और जुदाी वाले शेर ने मुझे एक इसी तरह का पर
    उलट शेर याद दिला दिया। शायर का नाम शायद आपको पता हो।

    वस्ल में होश उड गये मेरे,
    क्या जुदाई को मुँह दिखाऊंगा।

    उत्तर देंहटाएं
  4. अपनों ने जनाज़े को तो रुख़्सत था कर दिया,
    पल भर को सही रोक लिया राह का पत्थर।
    बहुत खूब।

    उत्तर देंहटाएं