फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

Monday, July 27, 2020

अपने दम पे नाम कमाना होता है

जी का दुखना मैंने माना होता है
पर सच है क्या प्यार दीवाना होता है

दिखता नहीं है चाँद आजकल अब उसका
किस कूचे में आना जाना होता है

अक़्सर पाता हूँ मैं, राहे उल्फ़त में
उसका बोझ और अपना शाना होता है

इश्क़ में शिक़्वे बाइस हैं रुस्वाई के
अपने दम पे नाम कमाना होता है

ग़ाफ़िल और अब कितनी आवारागर्दी?
अब्रों का भी एक ठिकाना होता है

-‘ग़ाफ़िल’

1 comment: