फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शनिवार, दिसंबर 09, 2017

इससे तो अच्छा है झगड़ा करिए

करिए तारीफ़ के शिक़्वा करिए
जो भी करिए ज़रा अच्छा करिए

न रहा आपसे अब इत्तेफ़ाक़
अब ख़यालों में न आया करिए

आपको कर तो दूँ रुस्वा लेकिन
दिल नहीं कहता है ऐसा करिए

हुस्न इज़्ज़त का है तालिब इसका
न सरे राह तमाशा करिए

आप करते हैं तग़ाफ़ुल ग़ाफ़िल
इससे तो अच्छा है झगड़ा करिए

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें