फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

रविवार, अक्तूबर 30, 2016

शुभ दीवाली

आओ अपने अंतस का तम दूर भगाएं
मृत्युस्पर्द्धी सोई मनुता पुनः जगाएं
अधिक नहीं इस तरह से दीपक एक जलाकर
यारों क्यों न अबकी दीपावली मनाएं

सपरिवार आप सभी को दीवाली की अनन्त हार्दिक शुभकामनाएँ

-‘ग़ाफ़िल’



कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें