फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शनिवार, फ़रवरी 18, 2017

साँप आस्तीं के

चलाया तो तीरे नज़र आप ही ने
मगर आपको हम न रुस्वा करेंगे
हैं साँप आस्तीं के भला क्या यहाँ कम
जो अब आप भी रोज़ आया करेंगे

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें