फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Wednesday, June 15, 2011

ग़ाफ़िल का ढाबा (चीनी मिल परिसर, बभनान, में हुए कवि सम्मेलन की पुष्पिका)

आइए! हम आपको कविता जिमाते हैं।
हम कविता के पाकशास्त्री हैं,
बड़ी लज़ीज कविता बनाते हैं।।

क्या खाइएगा? वही न! जो हम पकाएंगे,
हम परोसेंगे और आप खाते ही जाएंगे।
क्योंकि हमारे परोसने का अन्दाज है निराला,
कविता भले ही कच्ची हो,

पर मजेदार होगा हर निवाला।।

ये मेरा दावा है कि आप नहीं होंगे बोर,
इत्मिनान रखिए! छन्दों के बर्त्तनों में
होता नहीं है शोर।
ये आपस में कभी-कभार टकराते तो जरूर हैं,
पर बड़े ही प्रेम से, आदत है, मगरूर हैं।।

दोहा, घनाक्षरी, चौपाई, पद हो या सवईया,
बड़े ही सुपाच्य हैं, हज़मुल्ला की जरूरत नहीं
बस खाइए भईया।।

इस घनाक्षरी की थाली में देश-भक्ति की पूरियां
जो कड़कड़ाती दिखायी दे रही हैं, घबराइए नहीं!
इसमें देशी घी का मोयन है जादा, मुँह में रखते ही
गल जाएंगी, आप मस्त हो जाएंगे ऐसा है मेरा वादा।।

हम नहीं कहते कि इसे खाकर आप 

भगत सिंह, हमीद और आज़ाद हो जाएंगे
पर इतना है कि पत्नी के आगे ही सही,
आपके बाजू, चाहे हवा में ही, ज़ुरूर फड़फड़ाएंगे।।

इसको ‘बौखल’ और ‘बौझड़’ की हास्य चटनी के साथ
खाइए, ‘वाहिद’ के साम्प्रदायिक सद्भाव के मिक्सवेज़
का भी लुत्फ़ उठाइए अथवा ‘सुरेश’ की यायावरी प्रवृत्ति
को अपनाना हो जरूरी, तो एक मुखौटा ‘विजय
का अवश्य
खरीदिए वर्ना यात्रा रह जाएगी अधूरी।।

अब चूँकि गेहूँ के दाने, चावल, और समस्त खद्यान्न

यहां तक कि जंगल, जानवर और जंगली उत्पाद
सब कुछ ‘आशू’ भाई के मुताबिक होने जा रहे हैं
लोरियों और कहानियों में, तो अभी भी समय है
चेत जाइए और आइए
ग़ाफ़िल के ढाबे में आइए!

‘सन्त’ समागम की भक्ति-प्रेम-रस पूरित तस्मयी का
मज़ा है कुछ और, हाँ!
ग़ाफ़िल के ढाबे की यह
‘व्याख्या’ गर समझ में न आए तो चुप-चाप
चले जाना मत करना कुछ शोर वर्ना
हम पाकशास्त्रीगण लाल-पीले हो जाएंगे
और आप हो जावोगे बोर।
                                                               -ग़ाफ़िल

23 comments:

  1. अरे वाह , आप तो एक अच्छे व्यंगकार भी हैं....
    वाह..क्या खूब ...कटाक्ष किया है...शुभकामनाएँ !

    ReplyDelete
  2. kya baat hai sir.. koi jabab nahi aapki bibidhta ka.. aaj main ek baar to chaunka ki ye kisi aur ka blog to nahi khol liya... bahut sari badhiyon ke sath

    ReplyDelete
  3. मज़ेदार व्यंग .

    ReplyDelete
  4. आपकी पाक कला का जवाब नहीं। स्वादिष्ट रही ये कविता ।कच्ची नहीं थी...परिपक्व लगी।

    ReplyDelete
  5. आपका यह व्यंग्य निश्चित रूप से बहुत ही उम्दा और परिपक्व है। पढ़ने में मज़ा आ गया। धन्यवाद तथा बधाई स्वीकार करें...

    ReplyDelete
  6. अरे वाह! क्या दे मारा...

    व्यंग्य की विधा भी आप पर क्या फबी... बधाई

    ReplyDelete
  7. बेहतरीन कटाक्ष.....दिलचस्प...

    ReplyDelete
  8. आद० मिश्रा जी ,

    सप्रेम अभिवादन

    आप तो अपने बगल के ही निकले ,बड़ी प्रसन्नता हुई |

    'गाफिल का ढाबा' बहुत प्यारा लगा

    अपनी रचना में विभिन्न छंदों और कुछ मंचीय कवियों को शामिलकर इसकी रोचकता बढ़ा दी है |

    कहीं न कहीं मुलाकात जरूर होगी ........शुभकामनाओं सहित

    ReplyDelete
  9. और ढाबों का तो पता नहीं पर आपका बड़ा सुपाच्य है।

    ReplyDelete
  10. आप सभी कद्रदानों को बहुत-बहुत धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. आपका अंदाज़े बयां बहुत अच्छा लगा ......

    ReplyDelete
  12. सचमुच काफी स्वादिष्ट लगा गाफिल साहब - वह क्या बात है? रोचक प्रस्तुति.
    सादर
    श्यामल सुमन
    09955373288
    www.manoramsuman.blogspot.com

    ReplyDelete
  13. ज़ायका तो वाकई अच्छा लगा। अब ये ढाबा भी खूब चलेगा। शुभकामनायें।

    ReplyDelete
  14. app ney to such mei kavita ko hi khaney lyak bana diya maaza agya wha wha.

    ReplyDelete
  15. बहुत लज़ीज़ कविता पकाई है आपने। उम्दा स्वाद था। और क्या सही कहा है ... “छन्दों के बर्त्तनों में होता नहीं है शोर।”

    ReplyDelete
  16. kya khoob vyang likha hai....
    aapke pakwan ka swaad bahut accha tha,namak na jyada na kum...

    ReplyDelete
  17. मिश्रा जी!
    आप अतुकान्त रचनाएँ बहुत अच्छी लिखते हैं!
    यह रचना भी मुझे बहुत पसंद आई!
    मगर मेरी मजबूरी यह है कि मैं अतुकाम्त नहीं लिख पाता हूँ!
    आपसे प्रेरणा मिल रही है, अब प्रयास करूँगा!

    ReplyDelete
  18. आपकी पाक कला का जवाब नहीं

    ReplyDelete
  19. aapke dhabe se sab swaad mil gaya

    ReplyDelete
  20. आपकी कविता तो लजीज.. दाल नहीं... साम्भर जैसी ..क्यूंकि इसमें तो सब्जियों का स्वाद है .. सादर

    ReplyDelete
  21. 'छन्दों के बर्त्तनों में होता नहीं है शोर।
    ये आपस में कभी-कभार टकराते तो जरूर हैं,
    पर बड़े ही प्रेम से, आदत है, मगरूर हैं'

    आपके छन्दों की मगरूरी और प्रेम एक साथ प्रशंसनीय हैं...ध्न्यवाद

    ReplyDelete
  22. कविता के इस ढाबे पर आ कर बहुत अच्छा लगा !
    आभार !

    ReplyDelete
  23. वाह साहब मैं तो सौभाग्यशाली हूँ जो इस ढाबे तक गया और खा पीकर आया ।

    ReplyDelete