फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Monday, April 29, 2019

हुज़ूर इस बार कैसा वार होगा

शबो रोज़ इल्म का व्यापार होगा
तो कब उल्फ़त का कारोबार होगा

एक क़त्अ-

मुझे लगता है शायद मेरा जीना
अब आगे और भी दुश्वार होगा
चलाकर वो नज़र का तीर मुझपर
कहे जाते हैं यूँ ही प्यार होगा

चला था तीर आगे नीमकश पर
हुज़ूर इस बार कैसा वार होगा

हर इक चलता रहे गर लीक पर ही
तमाशा ख़ाक मेरे यार होगा

अगर ग़ाफ़िल मुसन्निफ़ हो गए सब
ज़माना शर्तिया लाचार होगा

-‘ग़ाफ़िल’

No comments:

Post a Comment