फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Monday, July 29, 2019

कोई शख़्स अफ़साना मेरा न जाने

मेरे ही लिए क्यूँ के रस्ता न जाने
मैं हूँ वह के जो आबलो पा न जाने

तेरे सिम्त होता है अल्लाह क्या क्या
यहाँ पे तो होता है क्या क्या न जाने

नज़र की तेरी हो इनायत है ख़्वाहिश
तू मुझ पर से लेकिन हटाना न जाने

हिजाब इसलिए मेरे मुँह पर नहीं है
के तू ज़िश्तरू चाँद जैसा न जाने

नहीं गीत गाता हूँ मैं ताके ग़ाफ़िल
कोई शख़्स अफ़साना मेरा न जाने

-‘ग़ाफ़िल’

3 comments:


  1. जी नमस्ते,
    आपकी लिखी रचना 31 जुलाई 2019 के लिए साझा की गयी है
    पांच लिंकों का आनंद पर...
    आप भी सादर आमंत्रित हैं...धन्यवाद।

    ReplyDelete
  2. बहुत सुन्दर प्रस्तुति

    ReplyDelete
  3. बहुत लाजवाब...

    ReplyDelete