फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

Monday, January 23, 2017

अंदेशः

आदाब!

मैंने आवाज़ लगा दी, है मगर अंदेशः
सोचूँ कब तेरे दर आवाज़ मेरी जाती है

‘-ग़ाफ़िल’

No comments:

Post a Comment