फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

Wednesday, November 29, 2017

स्वाती की इक बूँद

अब न चातक को रही स्वाती की इक बूँद की आस
था पता किसको ज़माना यूँ बदल जाएगा

-‘ग़ाफ़िल’

No comments:

Post a Comment