फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Saturday, June 04, 2011

तू भी है आदमजात क्या?

हारिश न हो जो हुस्न में तो इश्क़ की भी बात क्या?
आँखों से बरसे मै नहीं तो सावनी बरसात क्या?

वैसे तो हम शामो सहर मिलते हैं दौराने सफ़र
पर हो न जो बज्मे तरब तो फिर है मूलाक़ात क्या?

जज़्बातों का मेरे करम जो पाल रक्खा है भरम
वर्ना हो शब तारीक तो फिर चाँद की औक़ात क्या?

वो बाग की नाजुक कली सहमी हुई ये कह पड़ी
जो इस तरह घूरे मुझे तू भी है आदमजात क्या?

ऐ हुस्न की क़ातिल अदा! सुन इश्क़ की भी ये सदा
तुझको भी तो हो इल्म कुछ होती है ता’जीरात क्या?

ग़ाफ़िल गया जिस भी शहर वाँ हर गली हर मोड़ पर
पत्थर बरसते दर-ब-दर तो फिर हैं खुशहालात क्या?

(हारिश=अपने को बना-चुना कर दिखाने का शौक, बज़्मे-तरब=महफ़िल का आनन्द, तारीक=काली, ता’जीरात=कानून की वह किताब जिसमें दण्ड विधान निहित होता है)

-‘ग़ाफ़िल’

18 comments:

  1. 'तू भी है आदमजात क्या?' यह व्यँजना बहुत अच्छी बन पड़ी है। धन्यवाद और बधाई।

    ReplyDelete
  2. 'चाँद की औक़ात क्या'...वाह!

    ReplyDelete
  3. बेहद उम्दा ग़ज़ल। बधाई

    ReplyDelete
  4. वैसे तो हम शामो-सहर, मिलते हैं दौराने-सफ़र,
    पर हो न जो बज्मे-तरब, तो फिर है मूलाक़ात क्या?
    waah

    ReplyDelete
  5. वैसे तो हम शामो-सहर, मिलते हैं दौराने-सफ़र,
    पर हो न जो बज्मे-तरब, तो फिर है मूलाक़ात क्या?

    do line aur jod di
    rashmi ji plz do one comment

    ReplyDelete
  6. ghaphil sir
    hazaro khwaishein aise ke har khawish pe dam nikle
    itne pyaare hain ye har sher ke bas tarif hi dil se nikle
    wakai lajabab... mujh jaise nau sikhiye ko seekhne ke liye pyaare pyare shabd mile... ek chintan mila..maine pichli ghazal mein guhar shabd ka upyog aapki ghazalon se seekh kar hi kiye.. nayi ghalein likhne wale mujh jaise logon ko naye naye radif aur kafia mil rahe hai...kisi ek sher par main kuch nahin kahna chahta..puri ghazal hi ja lajab hai...mamla dil ka tha phir kee dil se hi har baat hai..punah badhaiye

    ReplyDelete
  7. वो बाग़ की नाज़ुक कलि सहमी हुई सी कह रही ,
    के इस तरह घूरे मुझे तू भी क्या आदम जात है .सुन्दर प्रयोग .भाई साहब मुबारक .

    ReplyDelete
  8. वो बाग की नाजुक कली सहमी हुई सी, कह पड़ी,
    के इस तरह घूरे मुझे, तू भी है आदमजात क्या?

    क्या कटाक्ष है...बाप रे!

    ReplyDelete
  9. वो बाग की नाजुक कली सहमी हुई सी, कह पड़ी,
    के इस तरह घूरे मुझे, तू भी है आदमजात क्या?


    गज़ब!! बहुत दूर चोट की है!!!!

    ReplyDelete
  10. बहुत ही अच्‍छी प्रस्‍तुति ।

    ReplyDelete
  11. 'ग़ाफ़िल' गया जिस भी शहर, वाँ हर गली हर मोड़ पर,
    पत्थर बरसते दर-ब-दर तो फिर हैं खुश-हालात क्या?

    यूँ न फूलों को पत्थर कहा कीजिए
    आप गुल के घरों में रहा कीजिए
    कंकरों को जो चूमा, कली बन गये
    चोट कलियों की भी तो सहा कीजिये.

    ReplyDelete
  12. वो बाग की नाजुक कली सहमी हुई सी, कह पड़ी,
    के इस तरह घूरे मुझे, तू भी है आदमजात क्या?

    Behatareen sher!!! Badhaai!

    ReplyDelete
  13. बहुत सुन्दर प्रस्तुति |
    आभार आदरणीय ||

    ReplyDelete
  14. बहुत बेहतरीन गजल !
    धन्यवाद, सर !

    ReplyDelete
  15. बहुत खूब गाफ़िल जी!

    ReplyDelete