फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Saturday, June 11, 2011

मेरी तश्नगी

मेरी तश्नगी मुझे ही दीवाना न बना दे।
तश्नालबी ही मौत का गाना न बना दे॥

ये उम्र तो तेरे ही तसव्वुर में कट गयी,
मरने का कोई और बहाना न बना दे।

मेरे दिलो-दिमाग में तेरा ही फ़साना,
यह वक़्त कोई और फ़साना न बना दे।

इक चाँद ही ता'शब तो मेरे साथ रहा है,
डर है उसे भी कोई बेगाना न बना दे।

अब तक तो बेवफ़ा है जमाना मेरे लिए,
अब बेवफ़ा मुझे ये जमाना न बना दे।

तीरे-नज़र की तेरे ख़लिश से तड़प रहे
ग़ाफ़िल को कोई और निशाना न बना दे॥

( तश्नगी- प्यास, तश्नालबी- ओंठों का प्यासा होना अर्थात् सूख जाना )
                                                                    -ग़ाफ़िल

20 comments:

  1. अब तक तो बेवफ़ा है जमाना मेरे लिए,
    अब बेवफ़ा मुझे ये जमाना न बना दे।

    बहुत खूब ...खूबसूरत गज़ल

    ReplyDelete
  2. इक चाँद ही ता'शब तो मेरे साथ रहा है,
    डर है उसे भी कोई बेगाना न बना दे।
    waah

    ReplyDelete
  3. ...खूबसूरत गज़ल चन्द्र भूषण जी

    ReplyDelete
  4. अब तक तो बेवफ़ा है जमाना मेरे लिए,
    अब बेवफ़ा मुझे ये जमाना न बना दे।


    har sher bahut umdaa.......bahut khub

    ReplyDelete
  5. सुन्दर गज़ल!!

    ReplyDelete
  6. ये उम्र तो तेरे ही तसव्वुर में कट गयी,
    मरने का कोई और बहाना न बना दे।
    bahut hi khubsurat gazal
    pehli baar aapke blog me aai par aana safal hua bahut hi sundar rachna :)

    ReplyDelete
  7. अब तक तो बेवफ़ा है जमाना मेरे लिए,
    अब बेवफ़ा मुझे ये जमाना न बना दे।
    bahut sunder hamesha yad rahne wala sher hai
    saader
    rachana

    ReplyDelete
  8. ये उम्र तो तेरे ही तसव्वुर में कट गयी,
    मरने का कोई और बहाना न बना दे।
    खुबसूरत ग़ज़ल मुबारक हो!!!!

    ReplyDelete
  9. इक चाँद ही ता'शब तो मेरे साथ रहा है,
    डर है उसे भी कोई बेगाना न बना दे।

    khoobsoorat gazal....

    अब तक तो बेवफ़ा है जमाना मेरे लिए,
    अब बेवफ़ा मुझे ये जमाना न बना दे।

    kisi gaane ki ek pankti hai..

    agar bewafa tujhko pahchaan jaate, khuda ki kasam hum mohabbat na karte...

    ReplyDelete
  10. आप सभी कद्रदानों को नमस्कार! आप सभी ने मेरी ग़ज़ल की सराहना की बहुत-बहुत शुक्रिया। यक़ीन है आगे भी इसी तरह हमारी ग़ज़लें आपकी कद्रदानी की हक़दार होंगी। पुनः धन्यवाद

    ReplyDelete
  11. चन्द्र जी की गजल बहुत उम्दा ... पहली बार आना हुवा और सफल हुवा आना ..

    ReplyDelete
  12. "अब बेवफा मुझे ज़माना ना बना दे "बहुत सुंदर अभिव्यक्ति
    बधाई
    मेरे ब्लॉग पर आने के लिए आभार
    आशा

    ReplyDelete
  13. काफी गहरे भाव छुपे है इन पंक्तियों में |

    http://navkislaya.blogspot.com/

    ReplyDelete
  14. बहुत खूबसूरज ग़ज़ल पेश की है आपने!

    ReplyDelete
  15. अब तक तो बेवफ़ा है जमाना मेरे लिए,
    अब बेवफ़ा मुझे ये जमाना न बना दे।

    वाह गाफिल साहब, आपकी रचना ने तो दिल खुश कर दिया है ... मज़ा आ गया पढकर ...

    ReplyDelete
  16. इक चाँद ही ता'शब तो मेरे साथ रहा है,
    डर है उसे भी कोई बेगाना न बना दे।
    ek hasin sukhad ahsas.. man ko andar hi andar darata bhi hai.... wakai lajbab

    ReplyDelete
  17. एक् चाँद ही....बेगाना न बना दे । क्या बात है । उम्दा और खू़बसूरत ।

    ReplyDelete