फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, अप्रैल 15, 2016

कौन आएगा

जाम आँखों से पिलाने कौन आएगा
इक सिवा तेरे दीवाने कौन आएगा

ठीक है कर ले तग़ाफ़ुल ऐ ज़माने तू
सोचना पर आज़माने कौन आएगा

सुर्ख़ियों में नाम मेरा आ गया पर अब
सुर्ख़ आँखों से बचाने कौन आएगा

जा रहा जो दिल दयारां से, जा बंजारे!
फ़र्क़ क्या दिल तोड़ जाने कौन आएगा

आज फिर सैलाब सा है दिल के दर्या में
देखता हूँ डूब जाने कौन आएगा

तेरी ताबानी-ए-रुख़ गर कम हुई तो जी
एक ग़ाफ़िल का जलाने कौन आएगा

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें