फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शनिवार, अप्रैल 16, 2016

आदमी के हुआ सर का भार आदमी

हैं ख़रीदार भी बेशुमार आदमी
बेचता है धड़ल्ले से प्यार आदमी

बेवफ़ाओं की चर्चा सरेआम है
पर किये जा रहा ऐतबार आदमी

इश्क़ में जाँ लुटाने की फ़ुर्सत किसे
बस लगाता है यूँ ही गुहार आदमी

पॉलिसी इश्क़ के मॉर्केट की है यूँ
टूटता जा रहा कि़स्तवार आदमी

अश्क गौहर हैं आई न इतनी समझ
और रोता रहा जार जार आदमी

यार ग़ाफ़िल यही दौरे दुश्वार है
आदमी के हुआ सर का भार आदमी

-‘ग़ाफ़िल’

1 टिप्पणी:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" रविवार 17 अप्रैल 2016 को लिंक की जाएगी............... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा ....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं