फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

मंगलवार, अप्रैल 11, 2017

पाँव को मैं पाँव सर को सर लिखूँगा

और कितना चश्म को ख़ंजर लिखूँगा
अब न यूँ कुछ ऐ मेरे दिलबर लिखूँगा

बोझ गो सारे बदन का ढो रहा है
पाँव को पर सर भला क्यूँकर लिखूँगा

सच बयानी रास आए या न आए
पाँव को मैं पाँव सर को सर लिखूँगा

और कुछ लिक्खूँ न फिर भी कुछ न कुछ तो
मैैं तेरी वादाख़िलाफ़ी पर लिखूँगा

कर न पाया तू ग़मे दिल को रफ़ा तो
जाँसिताँ तुझको भी चारागर लिखूँगा

मानता हूँ मैं मुसन्निफ़ हूँ नहीं पर
जब लिखूँगा और से बेहतर लिखूँगा

हूँ मगर इतना भी मैं ग़ाफ़िल नहीं हूँ
ख़ुद की जो आवारगी अक़्सर लिखूँगा

-‘ग़ाफ़िल’

कोई टिप्पणी नहीं:

एक टिप्पणी भेजें