फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Monday, April 03, 2017

हुस्न भी लेकिन शराफ़त से रहे

जैसे भी चाहे कोई वैसे रहे
जब तलक ज़़े़े़े़ेरे जिगर मेरे रहे

हो चुका है गर ज़माना ग़ैर का
आप भी तो अब कहाँ अपने रहे

ठीक है डंडे जमाओ इश्क़ पर
हुस्न भी लेकिन शराफ़त से रहे

मस्त है अपनी ही धुन में हर कोई
किसको समझाए कोई कैसे रहे

झंड है ग़ाफ़िल जी अपनी ज़िन्दगी
हम न घर के ही न बाहर के रहे

-‘ग़ाफ़िल’

No comments:

Post a Comment