फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Tuesday, May 29, 2018

कभी नाज से मुस्कुराकर तो देखो

हुनर यह कभी आज़माकर तो देखो
दिलों में ठिकाना बनाकर तो देखो

नहीं फिर सताएगी तन्हाई-ए-शब
किसी के भी ख़्वाबों में जाकर तो देखो

उठा लेगा तुमको ज़माना सर आँखों
तुम इक भी गिरे को उठाकर तो देखो

न बह जाए उसमें ये दुनिया तो कहना
तबीयत से आँसू बहाकर तो देखो

रहेंगे न तुमसे फिर अफ़्राद ग़ाफ़िल
कभी नाज से मुस्कुराकर तो देखो

-‘ग़ाफ़िल’

8 comments:


  1. आपकी लिखी रचना आज "पांच लिंकों का आनन्द में" बुधवार 30 मई 2018 को साझा की गई है......... http://halchalwith5links.blogspot.in/ पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!


    ReplyDelete
  2. खूबसूरत गजल।

    नाज से मुस्कुराकर तो देखो
    वाह
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  3. लाजवाब प्रस्तुति !! खूबसूरत ग़ज़ल ! बहुत खूब आदरणीय ।

    ReplyDelete
  4. लाजवाब गजल...

    ReplyDelete