फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

शुक्रवार, अगस्त 05, 2011

आग लगायी लोगों ने

मेरी झिलमिल सी रातों में आग लगाई लोगों ने
मेरी बर्बादी की कैसे हँसी उड़ाई लोगों ने

मेरे बचपन का साथी था एक खिलौना छूट गया
अब तक उससे खेल रहा था नज़र लगाई लोगों ने

अपनी अपनी किस्मत है ये बाग़ संवारा हमने ही
पतझड़ मेरे हिस्से आया मौज मनाई लोगों ने

ग़ाफ़िल उलझा है गुलाब के काँटो भरे छलावे में
दामन उसका चिन्दी चिन्दी ख़ुश्बू पाई लोगों ने

-‘ग़ाफ़िल’

27 टिप्‍पणियां:

  1. गज़ब कर दिया…………शानदार भावाव्यक्ति।

    उत्तर देंहटाएं
  2. मेरी बर्बादी की कैसे हंसी उडाई लोगों ने..

    वाह.. क्या बात है।
    बहुत बढिया

    उत्तर देंहटाएं
  3. ग़ज़ल के सभी अशआर बहुत पसंद आये!
    मैं तो इसको बेहतरीन जानदार और शानदार ग़ज़ल ही कहूँगा!

    उत्तर देंहटाएं
  4. ग़फ़िल‘ उलझा है गुलाब के काँटों भरे छलावे में,
    दामन उसका चिन्दी-चिन्दी, ख़ुश्बू पायी लोगों ने।।

    बहुत बढ़िया ग़ज़ल कही है आपने...

    उत्तर देंहटाएं
  5. पहली बार

    एक बार में बहता हुआ किनारे जा लगा ||

    हमेशा ,

    इक दो हिचकोले खा ही जाता था --

    शब्दों के मायने तलाशने में |


    बधाई ||

    उत्तर देंहटाएं
  6. बहुत खूब ....आपने तो आग ही लगा दी ......आभार

    उत्तर देंहटाएं
  7. बहुत सुन्दर प्रस्तुति, सुन्दर अभिव्यक्ति , आभार

    उत्तर देंहटाएं
  8. बेहद खूबसूरत अभिव्यक्ति. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  9. ग़फ़िल‘ उलझा है गुलाब के काँटों भरे छलावे में,
    दामन उसका चिन्दी-चिन्दी, ख़ुश्बू पायी लोगों ने।।
    Bahut badhiya.. atiuttam bhawabhyakti..

    http://sureshilpi-ranjan.blogspot.com

    उत्तर देंहटाएं
  10. मेरे बचपन का साथी था एक खिलौना, टूट गया,

    अबतक उससे खेल रहा था, नज़र लगायी लोगों ने।

    वाह! सभी अशआर बढ़िया है...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  11. अपनी-अपनी किस्मत है, ये बाग सँवारा हमने ही,
    पतझड़ मेरे हिस्से आया, मौज़ मनायी लोगों ने।
    ‘ग़फ़िल‘ उलझा है गुलाब के काँटों भरे छलावे में,
    दामन उसका चिन्दी-चिन्दी, ख़ुश्बू पायी लोगों ने।।
    गाफ़िल जी ऐसे शे’रों पर तो दिल क़ुरबान ...!

    उत्तर देंहटाएं
  12. मेरे बचपन का साथी था एक खिलौना, टूट गया,

    अबतक उससे खेल रहा था, नज़र लगायी लोगों ने।

    वाह ..... उम्दा रचना

    उत्तर देंहटाएं
  13. मेरे बचपन का साथी था एक खिलौना, टूट गया,

    अबतक उससे खेल रहा था, नज़र लगायी लोगों ने।

    umda ghazal....dhanyawaad

    उत्तर देंहटाएं
  14. सुंदर गज़ल आदरणीय गाफ़िल जी बधाई

    उत्तर देंहटाएं
  15. मत्ले से मक़्ते तक सुंदर ग़ज़ल

    उत्तर देंहटाएं
  16. .कृपया यहाँ भी कृतार्थ करें .http://veerubhai1947.blogspot.com/‘ग़फ़िल‘ उलझा है गुलाब के काँटों भरे छलावे में,

    दामन उसका चिन्दी-चिन्दी, ख़ुश्बू पायी लोगों ने।।क्या खूब कहा है गाफिल साहब याद आ गईं गोपाल सिंह नेपाली की पंक्तियाँ -मेरी दुल्हन सी रातों को नौ लाख सितारों ने लूटा ...तमाम अशआर काबिले दाद .बधाई .
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    -

    उत्तर देंहटाएं
  17. अपनी-अपनी किस्मत है, ये बाग सँवारा हमने ही,

    पतझड़ मेरे हिस्से आया, मौज़ मनायी लोगों ने...

    ----

    गाफिल जी , अक्सर ऐसा ही होता है ! जो असली हक़दार होते हैं , वे वंचित ही रह जाते है बसंत को भोगने से !

    .

    उत्तर देंहटाएं
  18. मेरे बचपन का साथी था एक खिलौना, टूट गया,
    अबतक उससे खेल रहा था, नज़र लगायी लोगों ने।

    बहुत सुन्दर एवं मर्मस्पर्शी .....! हार्दिक शुभकामनायें !

    उत्तर देंहटाएं
  19. आपने सुंदर गजल लिखी है ,
    लुत्फ लिया हम लोगों ने ।

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत भावपूर्ण रचना के लिए बधाई |
    आशा

    उत्तर देंहटाएं
  21. अपनी-अपनी किस्मत है, ये बाग सँवारा हमने ही,

    पतझड़ मेरे हिस्से आया, मौज़ मनायी लोगों ने।

    jindagi ki bahut badi sacchai bayan ki hai aapne..aapki behad pasand aayi ghazlon me se ek..shubhkamnaon ke sath

    उत्तर देंहटाएं
  22. अपनी-अपनी किस्मत है, ये बाग सँवारा हमने ही,

    पतझड़ मेरे हिस्से आया, मौज़ मनायी लोगों ने।
    गम न कर ज़िन्दगी पड़ी है अभी .शुक्रिया गाफिल साहब .तशरीफ़ लाने का .

    उत्तर देंहटाएं
  23. ऐसे ही तो फैलती है गुलाब की खुशबू - लोगों में.....
    :-)

    उत्तर देंहटाएं