फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Sunday, August 07, 2011

आज ख़ुश हूँ बहुत

आज ख़ुश हूँ बहुत, उनका ख़त आ गया,
सूनी बगिया में फिर से बहार आ गयी।
थी उमस से भरी, चिपचिपी दुपहरी,
भीगे सावन सी ठंढी फुहार आ गयी॥


मैं तड़पता रहा धूप में रेत पर,
वो मचलते रहे लहलहे खेत पर,
यक-ब-यक जाने कैसा है जादू हुआ,
इस तपन में बसन्ती बयार आ गयी।


लोग समझें न इस ख़त के मजमून को,
मैं समझता हूँ स्याही की हर बून को,
धूल से कैस की फिर इबारत उड़ी,
यार के वास्ते बन पुकार आ गयी।


किस क़दर तू है 'ग़ाफ़िल' अनाड़ी निरा,
तीर तरकश से जाकर कहाँ पे गिरा,
चाक कर डाला जो उनका नाज़ुक ज़िग़र,
तेरे लहजे मे कैसे वो धार आ गयी॥
                                                         -'ग़ाफ़िल'

32 comments:

  1. Badhiya janab..khushi kayam rahe!!!

    ReplyDelete
  2. लोग समझें न इस ख़त के मजमून को,
    मैं समझता हूँ स्याही की हर बून को,
    धूल से कैस की फिर इबारत उड़ी,
    यार के वास्ते बन पुकार आ गयी।......
    शानदार पोस्ट....धन्यवाद :)

    ReplyDelete
  3. बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति , बधाई मिश्रा जी

    ReplyDelete
  4. किस क़दर तू है 'ग़ाफ़िल' अनाड़ी निरा,
    तीर तरकश से जाकर कहाँ पे गिरा,
    चाक कर डाला जो उनका नाज़ुक ज़िग़र,
    तेरे लहजे मे कैसे वो धार आ गयी॥
    shandar ,,,teer lag hi gay hai to lage rahne dijiye,,,

    ReplyDelete
  5. सुंदर भाव संजोये पंक्तियाँ...

    ReplyDelete
  6. किस क़दर तू है 'ग़ाफ़िल' अनाड़ी निरा,
    तीर तरकश से जाकर कहाँ पे गिरा,
    चाक कर डाला जो उनका नाज़ुक ज़िग़र,
    तेरे लहजे मे कैसे वो धार आ गयी॥
    --
    बहुत बढ़िया गीत रचा है आपने!
    और यह ग़ाफिल की पहचानवाला अन्तिम छंद तो बहुत सुन्दर रहा!

    ReplyDelete
  7. लोग समझें न इस ख़त के मजमून को,
    मैं समझता हूँ स्याही की हर बून को,
    धूल से कैस की फिर इबारत उड़ी,
    यार के वास्ते बन पुकार आ गयी।...waah, bahut hi badhiyaa

    ReplyDelete
  8. aapki ghazal padhne me ek alag hi maja hai.bahut achchi ghazal last ki lines to bahut khoobsurat hain.

    ReplyDelete
  9. मैं तड़पता रहा धूप में रेत पर,
    वो मचलते रहे लहलहे खेत पर,
    यक-ब-यक जाने कैसा है जादू हुआ,
    इस तपन में बसन्ती बयार आ गयी।

    bahut acchi rachana..

    ReplyDelete
  10. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ
    आपकी रचनात्मक ,खूबसूरत और भावमयी
    प्रस्तुति आज के तेताला का आकर्षण बनी है
    तेताला पर अपनी पोस्ट देखियेगा और अपने विचारों से
    अवगत कराइयेगा ।

    http://tetalaa.blogspot.com/

    ReplyDelete
  11. लोग समझें न इस ख़त के मजमून को,
    मैं समझता हूँ स्याही की हर बून को,
    धूल से कैस की फिर इबारत उड़ी,
    यार के वास्ते बन पुकार आ गयी।..........bahut khoob gafil ji...

    ReplyDelete
  12. बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  13. लोग समझें न इस ख़त के मजमून को,
    मैं समझता हूँ स्याही की हर बून को,
    धूल से कैस की फिर इबारत उड़ी,
    यार के वास्ते बन पुकार आ गयी।....बेहतरीन

    ReplyDelete
  14. धूल से कैस की फिर इबारत उड़ी,
    यार के वास्ते बन पुकार आ गयी।.

    मित्रता दिवस की शुभकामनाये .

    ReplyDelete
  15. मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं,आपकी कलम निरंतर सार्थक सृजन में लगी रहे .
    एस .एन. शुक्ल

    ReplyDelete
  16. बहुत ही खुबसूरत....

    ReplyDelete
  17. वाह! बहुत बढ़िया...
    सादर..

    ReplyDelete
  18. खूबसूरत भावाभिव्यक्ति.

    ReplyDelete
  19. aapke jzbat khoob ubhar ke aaye hai .
    shandar post ke liye bhut bhut bdhai .

    ReplyDelete
  20. आदरणीय चन्द्र भूषण मिश्र ‘ग़ाफ़िल’ जी
    सादर नमस्कार !

    आपके यहां आ'कर सुख़न का असली स्वाद मिल जाता है :)
    थी उमस से भरी, चिपचिपी दुपहरी,
    भीगे सावन-सी ठंडी फुहार आ गयी॥

    क्या अंदाज़े-बयां है !
    वाह ! वाऽह ! व्वाऽऽऽह… !
    मित्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाओ के साथ

    -राजेन्द्र स्वर्णकार

    ReplyDelete
  21. लोग समझें न इस ख़त के मजमून को,
    मैं समझता हूँ स्याही की हर बून को,
    kya baat hai mishra ji ....bahut khub shubhkamnayen ji /

    ReplyDelete
  22. किस क़दर तू है 'ग़ाफ़िल' अनाड़ी निरा,
    तीर तरकश से जाकर कहाँ पे गिरा,
    चाक कर डाला जो उनका नाज़ुक ज़िग़र,
    तेरे लहजे मे कैसे वो धार आ गयी॥

    बहुत शानदार पंक्तियाँ हैं गाफिल जी ! पूरी की पूरी रचना की अनुपम है ! बधाई !

    ReplyDelete
  23. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ...आभार ।

    ReplyDelete
  24. बहुत खूबसूरत भावाभिव्यक्ति , बधाई

    ReplyDelete
  25. खूबसूरत भावाभिव्यक्ति ........

    ReplyDelete
  26. हर मुक्तक गज़ब का .....मनमोहक - चित्ताकर्षक

    ReplyDelete
  27. bahut badiyaa panktiyon ke saath likhi sunder rachanaa.badhaai aapko.

    "ब्लोगर्स मीट वीकली {३}" के मंच पर सभी ब्लोगर्स को जोड़ने के लिए एक प्रयास किया गया है /आप वहां आइये और अपने विचारों से हमें अवगत कराइये/हमारी कामना है कि आप हिंदी की सेवा यूं ही करते रहें। सोमवार ०८/०८/११ को
    ब्लॉगर्स मीट वीकली में आप सादर आमंत्रित हैं।

    ReplyDelete
  28. खूबसूरत रचना .. अच्छी भावाभिव्यक्ति

    ReplyDelete
  29. बहुत खूब गाफिल जी ||
    बधाई ||

    ReplyDelete
  30. प्रभावशाली हैं आपकी रचनाएं ...
    शुभकामनायें आपको !

    ReplyDelete