फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

रविवार, दिसंबर 07, 2014

जा रहे हैं वो मुस्कुराते हैं

जब हमारी गली से जाते हैं।
पाँव उनके भी डगमगाते हैं।।

जो दीये बुझ चुके थे यादों के,
राहे उल्फ़त में जगमगाते है।

अश्क हैं के ठहर नहीं सकते,
चश्म बेवक़्त डबडबाते हैं।

हमतो आ करके ख़ार से चुभते,
वे तो जाकर भी गुल खिलाते हैं।

उन्से क्या आशिक़ी की बातें हों,
बात बातों में जो बनाते हैं।

है यह भी तर्ज़े क़ातिली ग़ाफ़िल!
जा रहे हैं वो मुस्कुराते हैं।।

-‘ग़ाफ़िल’

25 टिप्‍पणियां:

  1. चंद्रभूषण मिश्र जी बहुत सुन्दर शेर आप के एक से बढ़ कर एक -निम्न पंक्ति बड़ी प्यारी क्या अदा है उनकी जा रहे और ...
    है ये भी तर्ज़े-क़ातिली 'ग़ाफ़िल',
    जा रहे हैं वो मुस्कुराते हैं॥
    स्वतंत्रता दिवस पर हार्दिक शुभ कामनाएं
    भ्रमर ५

    उत्तर देंहटाएं
  2. खूबसूरत गजल. आभार. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनायें...
    सादर,
    डोरोथी.

    उत्तर देंहटाएं
  3. मिश्र जी
    खूबसूरत गजल
    वाह बेहतरीन !!!!
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक शुभकामनाएं….!

    जय हिंद जय भारत

    उत्तर देंहटाएं
  4. बहुत सुन्दर और सार्थक ग़ज़ल!
    आजादी की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  5. जो दिये बुझ चुके थे यादों के,
    राहे-उल्फ़त मेँ जगमगाते हैं।

    Bahut Sunder Gazal....

    उत्तर देंहटाएं
  6. हम तो आ करके ख़ार से चुभते,
    वो तो जाकर भी गुल खिलाते हैं।
    waah

    उत्तर देंहटाएं
  7. हम तो आ करके ख़ार से चुभते,
    वो तो जाकर भी गुल खिलाते हैं।
    वाह सर....
    अत्यंत सुन्दर ग़ज़ल...
    राष्ट्र पर्व की हार्दिक बधाइयां...

    उत्तर देंहटाएं
  8. स्वतंत्रता दिवस 2011 की आपको हार्दिक बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  9. हम तो आ करके ख़ार से चुभते,
    वो तो जाकर भी गुल खिलाते हैं।

    बहुत खूब ...

    उत्तर देंहटाएं
  10. सुन्दर अभिव्यक्ति !!!

    उत्तर देंहटाएं
  11. मेरे जानिब से जब भी जाते हैं।
    पाँव उनके भी डगमगाते हैं॥गाफ़िल साहब जब शैर कहतें हैं ,ला -ज़वाब कहतें हैं ,कहतें हैं के "गाफ़िल" का है अंदाज़े बयाँ और ,हैं और भी दुनिया में सुखनवर बहुत अच्छी .....
    कृपया यहाँ भी कृतार्थ करें .
    Tuesday, August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......
    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/

    उत्तर देंहटाएं
  12. बहुत सुन्दर और सार्थक ग़ज़ल!
    आजादी की 65वीं वर्षगाँठ पर बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    उत्तर देंहटाएं
  13. अश्क़ हैं के ठहर नहीं सकते,
    चश्म बे-वक़्त डबडबाते हैं।हर अशआर का अपना असर ,ग़ज़ल ये पढ़े हर बशर .
    Tuesday, August 16, 2011
    उठो नौजवानों सोने के दिन गए ......http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    सोमवार, १५ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ लिया है (दूसरी किश्त ).
    http://veerubhai1947.blogspot.com/
    मंगलवार, १६ अगस्त २०११
    त्रि -मूर्ती से तीन सवाल .

    उत्तर देंहटाएं
  14. हम तो आ करके ख़ार से चुभते,
    वो तो जाकर भी गुल खिलाते हैं।|

    खूबसूरत गज़ल ||

    उत्तर देंहटाएं
  15. बहुत सुन्दर पंक्तियाँ

    उत्तर देंहटाएं
  16. अश्क़ हैं के ठहर नहीं सकते,
    चश्म बे-वक़्त डबडबाते हैं।
    वाह!

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर अशआरों से सजी हुई बेहतरीन ग़ज़ल पढ़वाने के लिए शुक्रिया!

    उत्तर देंहटाएं
  18. बेहतरीन नज़्म के लिए शुक्रिया..

    उत्तर देंहटाएं
  19. जो दिये बुझ चुके थे यादों के,
    राहे-उल्फ़त में जगमगाते हैं।

    अश्क़ हैं के ठहर नहीं सकते,
    चश्म बे-वक़्त डबडबाते हैं।
    वाह ...बहुत ही बढिया।

    उत्तर देंहटाएं
  20. इनती पुरानी गज़ल का लिंक दिया आपने..पुराना दर्द उभरा लगता है:)
    ..वैसे जो भी हो गज़ल बेहतरीन है।

    उत्तर देंहटाएं