फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Tuesday, August 16, 2011

एक 'ग़ाफ़िल' से मुलाक़ात याँ पे हो के न हो

यार तेरी वो मुआसात यहाँ हो के न हो।
फिर सुहानी वो हसीं रात यहाँ हो के न हो॥

ऐसी ख़्वाहिश के रहे चाँद भी इन क़दमो में,
आबे- हैवाँ की वो बरसात यहाँ हो के न हो।

अंदलीबों यूँ ख़िज़ाओं में रहो गुम- सुम मत,
फिर बहारों की करामात यहाँ हो के न हो।

मुझ सा नादाँ भी ग़ज़ब ख़ुद को कहे अफलातूँ,
एक ‘ग़ाफ़िल’ से मुलाक़ात यहाँ हो के न हो॥ 

(मुआसात= मिह्रबानी, आबे- हैवाँ= अमृत)

कमेंट बाई फ़ेसबुक आई.डी.

30 comments:

  1. मुझ सा नादाँ भी यहाँ अफलातूँ से ना कमतर,
    एक 'ग़ाफ़िल' से मुलाक़ात याँ पे हो के न हो॥

    बेहद शानदार लाजवाब गज़ल ।

    ReplyDelete
  2. लोग अश्क़ों को भी आँखों में छुपा लेते हैं,
    फिर तो गौहर का इख़्राजात याँ पे हो के न हो।

    बेहतरीन ग़ज़ल

    ReplyDelete
  3. ऐसी ख़्वाहिश के रहे चाँद भी इन क़दमो में,
    आबे- हैवाँ की फिर बरसात याँ पे हो के न हो।

    अति सुन्दर , सराहनीय .

    ReplyDelete
  4. "ऐसी ख़्वाहिश के रहे चाँद भी इन क़दमो में...."

    वाह! बड़ा उम्दा खयालात पेश किये हैं आपने....
    बेहतरीन...

    ReplyDelete
  5. अति सुन्दर..........बेहतरीन ग़ज़ल

    ReplyDelete
  6. लोग अश्क़ों को भी आँखों में छुपा लेते हैं,
    फिर तो गौहर का इख़्राजात याँ पे हो के न हो

    खूबसूरत गजल. आभार.
    सादर,
    डोरोथी.

    ReplyDelete
  7. वाह ...बहुत खूब कहा है आपने ..आभार ।

    ReplyDelete
  8. बहुत उम्दा गज़ल है .. नए अंदाज़ के शेर ...

    ReplyDelete
  9. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..

    ReplyDelete
  10. bahut sundar panktiyan sir....

    ReplyDelete
  11. भाई गाफिल जी
    बहुत-बहुत आभार ||

    एक स्थान पर खिले-कमल के
    चक्कर में कीचड़ में फंसा ||

    एक कदम पर बड़ी फिसलन तो
    दूसरे कदम पर जकड़न है,
    इतनी जोर से दबोचे गए कि ---

    जय बाबा भोले नाथ |

    अंदलीबों = ??

    बहुत बहुत बधाई ||

    ReplyDelete
  12. वाह ,बहुत खूब.

    ReplyDelete
  13. बहुत खूबसूरत ग़ज़ल लिखी है आपने ग़ाफिल जी!
    बहुत-बहुत शुभकामनाएँ!

    ReplyDelete
  14. बहुत ख़ूबसूरत गज़ल..

    ReplyDelete
  15. लोग अश्क़ों को भी आँखों में छुपा लेते हैं,
    फिर तो गौहर का इख़्राजात याँ पे हो के न हो//
    बहुत खूब

    ReplyDelete
  16. आपकी लिखी गजलों की बहुत बड़ी प्रशंसक हूँ।

    ReplyDelete
  17. लोग अश्क़ों को भी आँखों में छुपा लेते हैं,
    फिर तो गौहर का इख़्राजात याँ पे हो के न हो।

    बेहतरीन गज़ल.

    ReplyDelete
  18. अच्छी प्रस्तुति...बधाई...।
    मानी

    ReplyDelete
  19. बहुत ही सुन्दर
    बेहतरीन गजल...

    ReplyDelete
  20. लोग अश्क़ों को भी आँखों में छुपा लेते हैं,
    फिर तो गौहर का इख़्राजात याँ पे हो के न हो।
    बहुत खूब!

    ReplyDelete
  21. बहुत सुन्दर सार्थक रचना.

    ReplyDelete
  22. खूबसूरत गज़ल है गाफिल जी ! यह अच्छा है मुश्किल शब्दों के अर्थ आप साथ में लिख देते हैं, समझाने में आसानी हो जाती है !

    ReplyDelete
  23. गजल समर्पित हो गयी
    जब रविकर के नाम
    हिचकोले जरूर खिलायेगा
    देखिये क्या लिखता है
    लिखा हुआ उसका
    सामने तो आयेगा
    गाफिल की शानदार गजल
    पर एक और कसीदा पक्का
    वो आ आकर जड़ जायेगा ।

    ReplyDelete
  24. लोग अश्कों को भी आँखों में छुपा लेते हैं,
    फिर तो गौहर का इख़्राजात याँ पे हो के न हो।

    शानदार ग़ज़ल है !!
    बहुत खूब, गाफिल जी।

    ReplyDelete
  25. ग़ाफ़िल दानिशमन्द है, शायर है उस्ताद।
    चेला हमें बनाइए, करते हैं फरियाद।।

    ReplyDelete
  26. अपने हुजूर में कुछ कहने की इजाजत दे दो,
    मैंने कब कोई शायरी का खिताब माँगा था,,,,,,,

    ReplyDelete