फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Friday, July 10, 2015

लब तड़पते रहे तिश्नगी रह गई

बादा-ए-चश्म गो तू पिलायी मगर
लब तड़पते रहे तिश्नगी रह गयी

-‘ग़ाफ़िल’


1 comment:

  1. बहुत सुन्दर ...उम्दा !

    आभार !
    बहुत दिनों बाद फिर से ब्लॉग पे किर्यान्वित हुआ हूँ !
    मेरे ब्लॉग पर पधारने का कष्ट करें !

    ReplyDelete