फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

Thursday, July 20, 2017

भला हो

आदाब दोस्तो!

भले चुप था सफ़र भर, साथ तो था
भला हो ख़ूबतर उस अज़्नबी का

-‘ग़ाफ़िल’


1 comment: