फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

मेरी फ़ोटो

मेरे बारे में अधिक जानने के लिए यहाँ क्लिक करें

गुरुवार, अगस्त 11, 2011

सजनवा तू भी तो कुछ बोल


(मौन की महिमा तो निराली है ही किन्तु समय पर न बोलना भी कितना घातक हो जाता है यह बात सहज स्वीकार्य है। मेरी यह प्रविष्टि इससे पूर्व की प्रविष्टि ‘मौन-महिमा’ पर आई तमाम ऐसी प्रतिक्रियाओं, जिससे प्रतिक्रियाकर्ता के मौन साधने का उपक्रम ज़ाहिर होता है, का प्रतिफलन है)

सजनवा तू भी तो कुछ बोल,
तू क्यूँ होके मौन है बैठा, बोल न मिलती मोल।
                                                                सजनवा तू भी...
देख तो यह जग बोल रहा है, अपनी-अपनी खोल रहा है,
कुछ तेरे भी मन में होगा, मन की गाँठें खोल।
                                                               सजनवा तू भी...
ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल।
                                                                सजनवा तू भी...

ग़ाफ़िल! ओंठ खुलें अब तेरे, लघुता-मरजादा के घेरे
कब तक बाँध रखेंगे तुझको, अब ये बन्धन खोल।
                                                                सजनवा तू भी...
                                                                                     -ग़ाफ़िल

35 टिप्‍पणियां:

  1. अब तो बिन बोले नही रहा जाता...उम्दा "अमौन महिमा"...

    उत्तर देंहटाएं
  2. लोक से जुड़ा हुआ बहुत प्यारा गीत है गाफ़िल जी। वधाई आपको। "दुनियाँ " को दुनिया कर दीजिये क्योंकि "दुनियाँ" अशुद्ध शब्द है।

    उत्तर देंहटाएं
  3. अब भी अपनी पहले के मत पर क़ायम हूं ...

    शब्द तो शोर है तमाशा है,
    भाव के सिंधु में बताशा है।
    मर्म की बात होठ से न कहो,
    मौन ही भावना की भाषा है।

    उत्तर देंहटाएं
  4. वाह ...बहुत खूब कहा है ..।

    उत्तर देंहटाएं
  5. देख तो यह जग बोल रहा है, अपनी-अपनी खोल रहा है,
    कुछ तेरे भी मन में होगा, मन की गाँठें खोल।
    बहुत अच्छी रचना..वाह!!!!

    उत्तर देंहटाएं
  6. cheen kar alfaaj mere poochte ho chup rahne ki vajha kya hai!
    kuch bolun ya maun rahun bata teri raja kya hai!!
    dono hi soorat me bahut khoosrat likha hai.aapko badhaai.

    उत्तर देंहटाएं
  7. क्या बात है, बहुत सुंदर
    गाना याद आ गया

    सजनवा बैरी हो गए हमार.....

    उत्तर देंहटाएं
  8. ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
    अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल।bahut sahi...

    उत्तर देंहटाएं
  9. बहुत सुंदर अभिब्यक्ति /बधाई आपको

    उत्तर देंहटाएं
  10. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं
  11. मन की गांठे खोल, सजनवा तू भी तो कुछ बोल....
    वाह बड़े भईया... आनंद आ गया इस सुन्दर गीत को पढ़...
    सादर...

    उत्तर देंहटाएं
  12. जहाँ बोलना ज़रूरी हो वहां चुप रहना अन्याय है .

    उत्तर देंहटाएं
  13. ये सजनवा खुल के बोलने वाला नही जब तक आप खुल के नही लिखेंगे सीधे सीधे बोलिये गेट वेल सून

    उत्तर देंहटाएं
  14. ग़ाफ़िल! ओंठ खुलें अब तेरे, लघुता-मरजादा के घेरे
    कब तक बाँध रखेंगे तुझको, अब ये बन्धन खोल।

    वाह ...बहुत खूब !
    आनंद आ गया ...

    उत्तर देंहटाएं
  15. ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
    अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल

    sundar post...dhanyawaad..:)

    http://aarambhan.blogspot.com/2011/08/blog-post_12.html

    उत्तर देंहटाएं
  16. आपको रक्षा बंधन की बधाई
    मन की बात अगर अंदर ही रह जाए तो ...क्या उर्जा धनात्मक होगी या रिन्तात्मक ...यह खोज का विषय है

    उत्तर देंहटाएं
  17. सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    उत्तर देंहटाएं
  18. रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    उत्तर देंहटाएं
  19. रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    उत्तर देंहटाएं
  20. बहुत बढ़िया..वाह वाह..पिछली पोस्ट भी पढ़ी। मौन पर संग्रह करने योग्य छंद।..आभार आपका।

    उत्तर देंहटाएं
  21. बढ़े आपके परमार्थ की कमाई, आपके क़द की उंचाई॥
    स्वतंत्रता-दिवस की मंगल-कामनाएं॥
    जय भारत!! जय जवान! जय किसान!!

    उत्तर देंहटाएं
  22. बहुत ही भाव संसिक्त,रस माधुरी समेटे बड़े फलक का अद्भुत गीत . मन की गांठे खोल, सजनवा तू भी तो कुछ बोल....
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    रविवार, १४ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....


    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Sunday, August 14, 2011
    चिट्ठी आई है ! अन्ना जी की PM के नाम !

    उत्तर देंहटाएं
  23. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  24. ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
    अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल

    बहुत ही सुंदर और प्रेरक गीत।

    उत्तर देंहटाएं
  25. सजनवा तू भी तो कुछ बोल,
    तू क्यूँ होके मौन है बैठा, बोल न मिलती मोल।

    लाजवाब....
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    उत्तर देंहटाएं
  26. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    उत्तर देंहटाएं