फ़ेसबुक पर अनुसरण करें-

ग़ाफ़िल

My photo
Babhnan, Gonda, Uttar Pradesh, India

Thursday, August 11, 2011

सजनवा तू भी तो कुछ बोल


(मौन की महिमा तो निराली है ही किन्तु समय पर न बोलना भी कितना घातक हो जाता है यह बात सहज स्वीकार्य है। मेरी यह प्रविष्टि इससे पूर्व की प्रविष्टि ‘मौन-महिमा’ पर आई तमाम ऐसी प्रतिक्रियाओं, जिससे प्रतिक्रियाकर्ता के मौन साधने का उपक्रम ज़ाहिर होता है, का प्रतिफलन है)

सजनवा तू भी तो कुछ बोल,
तू क्यूँ होके मौन है बैठा, बोल न मिलती मोल।
                                                                सजनवा तू भी...
देख तो यह जग बोल रहा है, अपनी-अपनी खोल रहा है,
कुछ तेरे भी मन में होगा, मन की गाँठें खोल।
                                                               सजनवा तू भी...
ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल।
                                                                सजनवा तू भी...

ग़ाफ़िल! ओंठ खुलें अब तेरे, लघुता-मरजादा के घेरे
कब तक बाँध रखेंगे तुझको, अब ये बन्धन खोल।
                                                                सजनवा तू भी...
                                                                                     -ग़ाफ़िल

35 comments:

  1. अब तो बिन बोले नही रहा जाता...उम्दा "अमौन महिमा"...

    ReplyDelete
  2. लोक से जुड़ा हुआ बहुत प्यारा गीत है गाफ़िल जी। वधाई आपको। "दुनियाँ " को दुनिया कर दीजिये क्योंकि "दुनियाँ" अशुद्ध शब्द है।

    ReplyDelete
  3. अब भी अपनी पहले के मत पर क़ायम हूं ...

    शब्द तो शोर है तमाशा है,
    भाव के सिंधु में बताशा है।
    मर्म की बात होठ से न कहो,
    मौन ही भावना की भाषा है।

    ReplyDelete
  4. वाह ...बहुत खूब कहा है ..।

    ReplyDelete
  5. देख तो यह जग बोल रहा है, अपनी-अपनी खोल रहा है,
    कुछ तेरे भी मन में होगा, मन की गाँठें खोल।
    बहुत अच्छी रचना..वाह!!!!

    ReplyDelete
  6. cheen kar alfaaj mere poochte ho chup rahne ki vajha kya hai!
    kuch bolun ya maun rahun bata teri raja kya hai!!
    dono hi soorat me bahut khoosrat likha hai.aapko badhaai.

    ReplyDelete
  7. क्या बात है, बहुत सुंदर
    गाना याद आ गया

    सजनवा बैरी हो गए हमार.....

    ReplyDelete
  8. ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
    अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल।bahut sahi...

    ReplyDelete
  9. बहुत सुंदर अभिब्यक्ति /बधाई आपको

    ReplyDelete
  10. सुन्दर रचना।

    ReplyDelete
  11. कब तक मौन.....बढ़िया!!

    ReplyDelete
  12. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल शुक्रवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो
    चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete
  13. मन की गांठे खोल, सजनवा तू भी तो कुछ बोल....
    वाह बड़े भईया... आनंद आ गया इस सुन्दर गीत को पढ़...
    सादर...

    ReplyDelete
  14. जहाँ बोलना ज़रूरी हो वहां चुप रहना अन्याय है .

    ReplyDelete
  15. ये सजनवा खुल के बोलने वाला नही जब तक आप खुल के नही लिखेंगे सीधे सीधे बोलिये गेट वेल सून

    ReplyDelete
  16. बहुत सुन्दर, खूबसूरत

    ReplyDelete
  17. सजनवा तू तो बोल पर मत खोल्रो मेरी पोल

    ReplyDelete
  18. ग़ाफ़िल! ओंठ खुलें अब तेरे, लघुता-मरजादा के घेरे
    कब तक बाँध रखेंगे तुझको, अब ये बन्धन खोल।

    वाह ...बहुत खूब !
    आनंद आ गया ...

    ReplyDelete
  19. ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
    अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल

    sundar post...dhanyawaad..:)

    http://aarambhan.blogspot.com/2011/08/blog-post_12.html

    ReplyDelete
  20. आपको रक्षा बंधन की बधाई
    मन की बात अगर अंदर ही रह जाए तो ...क्या उर्जा धनात्मक होगी या रिन्तात्मक ...यह खोज का विषय है

    ReplyDelete
  21. सुन्दर और सार्थक अभिव्यक्ति...

    ReplyDelete
  22. रक्षाबंधन एवं स्वाधीनता दिवस के पावन पर्वों की हार्दिक मंगल कामनाएं.

    ReplyDelete
  23. रक्षाबंधन की आपको बहुत बहुत बधाई एवं शुभकामनाएं !

    ReplyDelete
  24. बहुत बढ़िया..वाह वाह..पिछली पोस्ट भी पढ़ी। मौन पर संग्रह करने योग्य छंद।..आभार आपका।

    ReplyDelete
  25. बढ़े आपके परमार्थ की कमाई, आपके क़द की उंचाई॥
    स्वतंत्रता-दिवस की मंगल-कामनाएं॥
    जय भारत!! जय जवान! जय किसान!!

    ReplyDelete
  26. बहुत ही भाव संसिक्त,रस माधुरी समेटे बड़े फलक का अद्भुत गीत . मन की गांठे खोल, सजनवा तू भी तो कुछ बोल....
    http://veerubhai1947.blogspot.com/

    रविवार, १४ अगस्त २०११
    संविधान जिन्होनें पढ़ा है .....


    http://kabirakhadabazarmein.blogspot.com/
    Sunday, August 14, 2011
    चिट्ठी आई है ! अन्ना जी की PM के नाम !

    ReplyDelete
  27. स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  28. ना बोला तो जग बोलेगा, इस दुनिया में बिस घोलेगा,
    अब ललकार दे बाचालों को, अब बतियाँ ना तोल

    बहुत ही सुंदर और प्रेरक गीत।

    ReplyDelete
  29. सजनवा तू भी तो कुछ बोल,
    तू क्यूँ होके मौन है बैठा, बोल न मिलती मोल।

    लाजवाब....
    स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनायें.

    ReplyDelete
  30. उम्दा पोस्ट बधाई मिश्र जी

    ReplyDelete
  31. आपकी इस उत्कृष्ट प्रविष्टी की चर्चा कल मंगलवार के चर्चा मंच पर भी की गई है!
    यदि किसी रचनाधर्मी की पोस्ट या उसके लिंक की चर्चा कहीं पर की जा रही होती है, तो उस पत्रिका के व्यवस्थापक का यह कर्तव्य होता है कि वो उसको इस बारे में सूचित कर दे। आपको यह सूचना केवल इसी उद्देश्य से दी जा रही है! अधिक से अधिक लोग आपके ब्लॉग पर पहुँचेंगे तो चर्चा मंच का भी प्रयास सफल होगा।

    ReplyDelete